झमाझम बरसे बदरा, बलिया सिटी तरबतर, किसान गदगद, शहरियों की उड़ी नींद

नालों की सफाई कराए जाने के बाद भी सड़कों पर पानी तीन इंच पानी लग गया. शहर के विभिन्न मोहल्ला काजीपुरा, आवास विकास कालोनी, सतनी सराय, काशीपुर, जगदीशपुर, राम दहिमपुरम, टैगोर नगर, आनंद नगर आदि में बारिश का पानी घरों में घुस गया

news update ballia live headlines

रिहायशी झोपड़ी गिरने से मलबे में दबकर विवाहिता की मौत, तीन बच्चे गंभीर

रसड़ा कोतवाली क्षेत्र के नागपुर गांव के चिरइया टोला में तेज आंधी और बारिश में झोपड़ी समेत कच्ची दीवाल के मलवे में तीन बच्चों संग माँ दब गयी.

अब यूं ही बदलता रहेगा मौसम का मिजाज

बीते साल इस महीने तक भीषण गर्मी पड़ने लगी थी. पारा भी कफी चढ़ गया था. किन्तु इस साल ठीक उसके विपरीत 15 अप्रैल से ही मौसम में अनिश्चितता व्याप्त है और रह – रह कर आँधी – तूफान के साथ बारिश भी हो जा रही है.

news update ballia live headlines

बलिया न्यूज अपडेट में पढ़ें खबरें एक साथ संक्षेप में

नमस्कार! बलिया LIVE पर आप सभी का बहुत बहुत स्वागत है. ये पेज आप सभी को एक साथ कम समय में सभी खबरें उपलब्ध कराने के मकसद से बनाया गया है. जब भी आपके पास थोड़ा वक्त हो इस पेज को एक बार देख लें – आपको ब्रेकिंग न्यूज़ और अपडेट के साथ साथ बीती घटनाओं का फॉलो अप भी मिलता रहेगा.

news update ballia live headlines

बलिया न्यूज अपडेट में पढ़ें खबरें एक साथ संक्षेप में

नमस्कार! बलिया LIVE पर आप सभी का बहुत बहुत स्वागत है. ये पेज आप सभी को एक साथ कम समय में सभी खबरें उपलब्ध कराने के मकसद से बनाया गया है. जब भी आपके पास थोड़ा वक्त हो इस पेज को एक बार देख लें – आपको ब्रेकिंग न्यूज़ और अपडेट के साथ साथ बीती घटनाओं का फॉलो अप भी मिलता रहेगा.

news update ballia live headlines

बलिया न्यूज़ अपडेट में पढ़ें खबरें एक साथ संक्षेप में

नमस्कार! बलिया LIVE पर आप सभी का बहुत बहुत स्वागत है. ये पेज आप सभी को एक साथ कम समय में सभी खबरें उपलब्ध कराने के मकसद से बनाया गया है. जब भी आपके पास थोड़ा वक्त हो इस पेज को एक बार देख लें – आपको ब्रेकिंग न्यूज़ और अपडेट के साथ साथ बीती घटनाओं का फॉलो अप भी मिलता रहेगा.

breaking news road accident

कुदरत का कहरः आकाशीय बिजली की चपेट में आने से पांच की मौत

भदोही में सायं पांच बजे के बाद करीब दो घंटे तक मूसलाधार बारिश होने से कई इलाकों में भारी जलभराव हो गया. जबकि मिर्जापुर और चंदौली में करीब दो घंटे तक मूसलाधार बारिश हुई. 

flood ballia patna sharda sinha sushil modi

बलिया जेल में घुटने भर पानी, शारदा सिन्हा को घर से रेस्क्यू करना पड़ा

मशहूर लोक गायिका शारदा सिन्हा भी अपने घर में फंसी हुई थीं और उनके घर में जरूरी दवाइयां भी खत्म होने वाली थीं. स्थिति जब नाजुक होने लगी तो शारदा सिन्हा ने अपने फेसबुक पेज के जरिये रेस्क्यू की अपील करनी पड़ी.

भारी बारिश के कारण पटरी धंसने से रेल यातायात बाधित

पूर्वोत्तर रेलवे के तहत आने वाले बलिया-छपरा रेल खंड पर रविवार को भारी बारिश के कारण पटरी धंसने से यातायात पूरी तरह बाधित हो गया है.

दो दिनों से बिजली न होने से जनजीवन अस्त-व्यस्त

क्षेत्र में लगातार हो रही बारिश के कारण जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है. दो दिनोंं से बिजली की सप्लाई ठप होने से लोगों को काफी परेशानी हो रही रही है.

सबको था नाव मिलने का इंतजार

तहसील क्षेत्र के दुबेछपरा एनएच 31 पर आश्रय लेनेवाले गोपालपुर, उदई छपरा और दुबेछपरा के पीड़ितों की रात बारिश में भींगते गुजरी. यहां रुक-रुक कर रात भर बारिश होती रही.

UP में अलग अलग घटनाओं में 14 लोगों की मौत, CM ने की मदद की घोषणा

कल मंगलवार को बलिया में दो, मिर्जापुर, अंबेडकरनगर और कानपुर में एक-एक व्यक्ति की मौत सर्प दंश से हुई थी, जबकि सोनभद्र और जौनपुर में एक-एक व्यक्ति की मौत बिजली गिरने से हुई है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विभिन्न जनपदों में ऐसी घटनाओं में 14 लोगों की मृत्यु पर गहरा शोक व्यक्त किया है.

बवंडर संग बारिश ने किया बत्ती गुल, सड़क पर उतरे लोग

शुक्रवार की देर शाम मौसम बिगड़ने के बाद 120 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से आई आंधी और बारिश के दौरान कई स्थानों पर पेड़ गिर गए. दो दर्जन से अधिक कच्चे मकान गिर गए और झोपड़ियां तहस नहस हो गईं. नेशनल हाईवे पर विशाल पेड़ की डाल गिरने से जाम लग गया.16 घंटे तक ट्रकों की कतार लगी रही.

बलिया-बनारस समते यूपी के 39 जिलों में मूसलाधार बारिश की चेतावनी

यूपी के गोरखपुर, कुशीनगर, देवरिया, संतकबीरनगर, महाराजगंज, सिद्धार्थनगर, बस्ती, अंबेडकरनगर, आजमगढ़, गाजीपुर, बलिया, जौनपुर, प्रतापगढ़, संतरविदासनगर, सुल्तानपुर, सीतापुर, पीलीभीत, प्रयागराज, चंदौली, वाराणसी, कौशांबी, मऊनाथभंजन, फैजाबाद, रायबरेली, गोंडा, बलरामपुर, श्रावस्ती, बहराइच, खीरी, रामपुर, मुरादाबाद, बिजनौर, बांदा, चित्रकूट, फतेहपुर, हमीरपुर, जालौन और झांसी जिले में भारी से भारी बारिश की चेतावनी है

सिकिया एकईल मार्ग पर बारिश में जल जमाव, आवाजाही ठप

तहसील क्षेत्र के सिकिया एकईल मार्ग पर निकासी के अभाव में कई गांव के समीप काफी मात्रा में बरसाती पानी भर गया है, जिससे इस मार्ग पर आवागमन ठप पड़ जाने से दर्जनों गांव के नागरिक आवागमन की कठिनाई झेलने को विवश हैं

बारिश से बचने के चक्कर में छत से गिरे, मौत

थाना क्षेत्र के बरवां गांव में सोते समय छत से नीचे गिर जाने से अधेड़ की मौत हो गई. परिवार वालों ने उनका अंतिम संस्कार कर दिया है.

नगरा बाजार में हल्की बारिश भी बन जाती है मुसीबत का सबब

थोड़ी सी बारिस में भी नगरा बाजार में चलना मुश्किल हो गया है. बरसात से बाजार के हनुमान चौक से दुर्गा चौक तक लबालब पानी घुटनों तक भर जाता है.

पलानी के नीचे दब कर पत्नी की मौत, पति गम्भीर 

थाना क्षेत्र के मूज के डेरा इब्राहिमाबाद गांव में बीती रात तेज बारिश में पलानी गिर जाने से उसमे सो रही शांति देवी (55) की घटना स्थल पर ही मौत हो गयी.

कीचड़ की वजह से नारकीय हो गया है बस स्टेशन डाकबंगला मार्ग 

बस स्टेशन से डाक बंगला तक जाने वाला खस्ताहाल नहर मार्ग बारिश के चलते कीचड़ युक्त हो गया है. जिससे उस पर आवागमन ठप पड़ जाने से लोगों को काफी कठिनाई झेलनी पड़ रही है.

लगातार बारिश से जन जीवन अस्त-व्यस्त, भरभरा कर गिरी दीवार

मंगलवार रात से ही हो रही रिमझिम बारिश से जनजीवन अस्त व्यस्त हो कर रह गया है. लोगों का घर से निकलना मुश्किल था और बाजार में खरीदारी करने वालों की भीड़ कम थी.

कहीं रूक रूक कर, कहीं लगातार हो रही बारिश, किसानों के चेहरे खिले

सिकंदरपुर में बुधवार को सुबह 8 घंटे तक हो रही अनवरत रिमझिम बारिश ने लोगों को जहां गर्मी से राहत प्रदान किया है. वही ग्रामीण अंचलों में खेती के कार्य में अचानक तेजी आ गई है.

पहली ही बारिश ने आदर्श नगर पालिका की कलई खोल कर रख दी

सीजन की पहली बारिश ने ही आदर्श नगर पालिका की कलई खोल कर रख दी. नगर के प्रमुख स्थानों समेत लोगों के घरों में पानी घुस गया.

मुड़ेरा गांव में सोए लोगों पर गिरी दीवाल समेत मड़ई, तीन घायल

कोतवाली क्षेत्र के मुड़ेरा ग़ांव में रविवार की रात मड़ई की दीवार गिरने से उसमें सोये तीन लोग गम्भीर रूप से घायल हो गए. सभी घायलो को 108 एम्बुलेंस की मदद से सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र लाया गया.

कमजोर मानसून से मुरझाए किसान

मौसम की अनिश्चितता इलाकाई किसानों पर भारी पड़ने लगा है. इसी के साथ सिंचाई के सरकारी संसाधनों की दगा ने उनकी सांसे फुला कर रख दिया है.