जल जमाव एवं दीपावली में होने वाली आतिशबाजी से घातक हो सकता है बलिया में प्रदूषण – डा० गणेश पाठक

इस वर्ष तो बाढ़ एवं जल जमाव अपने भयंकर रूप में अपना दुष्प्रभाव दिखा रखा है. पूरा बलिया नगर ही नहीं, बल्कि जिले के प्रत्येक क्षेत्र में जल जमाव की समस्या विकट रूप धारण किए हुए है. जल जमाव से नालियां जाम होकर बजबजाने लगी हैं, कुड़ा- कचरा सड़ कर दुर्गंध देने लगा है.

शारदीय नवरात्रि की नवमी तिथि को काली मंदिर से निकले ‘लाग’ में युवाओं ने बढ़-चढ़ कर लिया हिस्सा

लाग में शामिल युवक नुकीले छड़ से अपने गलफड़ को छेदते हैं तथा एक दुसरे के गलफड में घुसे हुए छड़ को पकड़े रहते हैं. इसके बाद जुलुस की शक्ल में पूरे बाजार का भ्रमण करतें हैं तथा देवी पंडालों में मत्था टेकते हैं.

बलिया के लाल प्रद्युम्न ने किया कमाल, भोजपुरी सिंगिंग रियलिटी शो में हुए सेलेक्ट

प्रद्युम्न कुमार उपाध्याय पुत्र प्रभुनाथ उपाध्याय आदर्श नगर पंचायत मनियर वार्ड नंबर 7 के निवासी है. इनकी माता रंभा देवी एक गृहणी एवं पिता प्रभुनाथ उपाध्याय आदर्श नगर पंचायत मनियर के मनोनीत सभासद है. पांच भाई बहनों में प्रद्युम्न कुमार उपाध्याय चौथे नंबर पर हैं.

मिशन शक्ति के अंतर्गत कार्यक्रमों का आयोजन

बैठक में अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर कस्तूरबा गांधी विद्यालयों में बालिकाओं से संबंधित मुद्दों और समस्याओं के प्रति उन्हें जागरूक करने के लिए कार्यक्रमों का आयोजन हुआ.

रेवती नगर में रामलीला मंचन का शुभारंभ

मुख्य अतिथि कनक ने कहा कि रामलीला बुराई पर अच्छाई की जीत का संदेश देती है. कहा कि भगवान राम ने मानव जीवन में अच्छे कार्यों को करते हुए मर्यादा पुरुषोत्तम कहलाए.

इब्राहिमाबाद के डेढ़ सौ एकड़ खेतों में फैला बाढ़ बरसात व सीवरेज का पानी, समस्या सुनना तो दूर झांकने भी नहीं आए जनप्रतिनिधि और अधिकारी

बुधवार को इब्राहिमाबाद गांव के पूरब कुकूरिया बाबा के स्थान पर इकट्ठा अपने खेतों को निहारते गांव के किसान, लगान पर खेती किसानी करने वाले लोग तथा खेतों में मजदूरी करने वाले काफी संख्या में कृषि मजदूर पुरुष और महिलाओं जिनमें धनंजय सिंह, हरि नारायण सिंह, ददन सिंह, सोनू सिंह, मंगल सिंह, गीता देवी, मंझरिया देवी आदि ने बताया कि पिछले तीन साल से बरसात बाढ़ व सीपेज का पानी हमारे गांव के लगभग डेढ़ सौ एकड़ खेतों में फाइल जा रहा है. इस साल और भी ज्यादा पानी बढ़ा है.

रास्ता विवाद को लेकर डेढ़ माह पूर्व हुई मारपीट की घटना में घायल हुए युवक की उपचार के दौरान मौत

नगरा थाना क्षेत्र के नरही के पंडितपुरा मौजे में 24 अगस्त 2021को सुबह रास्ते के विवाद में दो पक्षों में जमकर मार पीट हो गई, जिसमें दोनों पक्ष के डेढ़ दर्जन से अधिक लोग घायल हो गए. मारपीट में एक पक्ष के 40 वर्षीय परमानंद को गम्भीर चोट आई थी. दोनों पक्ष थाने पर गया किन्तु आरोप है कि पुलिस परमानन्द के पक्ष को थाने से भगा दिया. वहीं दूसरे पक्ष के लोगो का मेडिकल कराने के बाद मुकदमा भी दर्ज कर ली. घायल युवक को परिजन प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र नगरा ले गए, जहा चिकित्सक ने प्राथमिक उपचार के बाद सदर अस्पताल के लिए रेफर कर दिया.

राष्ट्रनिर्माण में महात्मा गांधी एवं लालबहादुर शास्त्री का योगदान अमिट है और सदैव रहेगाः प्रो० कल्पलता पाण्डेय

विश्वविद्यालय परिसर के शैक्षणिक निदेशक डाॅ गणेश कुमार पाठक ने कहा कि गांधी जी के विचार सर्वतोमुखी रहे हैं. नारी शिक्षा, बुनियादी शिक्षा, स्वच्छता आदि पर उनके विचार आज भी प्रासंगिक हैं. यही कारण है कि सरकारें उनके विचारों को अपना रही हैं।

बलिया में धूमधाम से मनाई गई राष्ट्रपिता महात्मा गांधी व लाल बहादुर शास्त्री की जयंती

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के तत्वाधान में दीवानी न्यायालय सभागार कक्ष में ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ का शुभारंभ प्रधान न्यायाधीश परिवार न्यायालय सत्य प्रकाश त्रिपाठी व प्रभारी जनपद न्यायाधीश दिनेश कुमार मिश्रा ने दीप प्रज्वलित कर किया.

कोबरा कमांडो अनूप गुप्ता को उनकी बहादुरी के लिए कोबरा बटालियन से मिला प्रशस्ति प्रमाण पत्र

कोबरा कमांडो अनूप गुप्ता मूल रूप से बलिया जिले के सीयर ब्लाक के ग्राम सभा कुशहा भाड़ के मूल रूप निवासी है. उनके पिता श्यामजी गुप्ता ने बताया कि वह हमारे बड़े लड़के है.

उभांव थाना परिसर में धूमधाम से मनाई गई गांधीजी और शास्त्रीजी की जयंती

इंस्पेक्टर ज्ञानेश्वर मिश्रा ने दोनों महापुरुषों के चित्र पर माल्यार्पण किया और तथा सभी पुलिसकर्मियों को शपथ दिलाई. तत्पश्चात सभी पुलिसकर्मियों ने महात्मा गांधी व लाल बहादुर शास्त्री के चित्र पर पुष्प माल्यार्पण कर, स्वच्छता व सत्यनिष्ठा के साथ राष्ट्र की एकता व अखंडता की शपथ ली.

गाँधी जयन्ती (2 अक्टूबर) पर विशेष: “प्रकृति संरक्षण के लिए समर्पित था गाँधीजी का जीवन दर्शन”

गाँधीजी ने कहा है कि, ” मैं आपको एक मंत्र दे रहा हूँ. जब भी आप संशग्रस्त हों अथवा भ्रमित हों तो या स्वार्थ से वशीभूत हो जाएँ तो आप यह उपाय करके देखिए- “आप अपने सामने आए हुए किसी अति दरिद्र असहाय एवं लाचार व्यक्ति का चेहरा अपने आँखों के सामने लाइए और आपने जो योजना तैयार की है, उस योजना से वह व्यक्ति लाभान्वित होगा कि नहीं? आप स्वयं से ऐसा प्रश्न कीजिए. इस प्रश्न को जो उत्तर मिलेगा, वही वास्तव में विकास एवं प्रगति को मापने का मापक होगा.”