आत्महत्या की धमकी को हल्के में ना लें: प्रो तुषार सिंह

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर डॉ तुषार सिंह ने कहा कि वैश्विक स्तर पर सबसे ज्यादा आत्महत्या एशिया में होती है, जिसमें चीन के बाद भारत दूसरे नंबर पर है. व्यक्तियों के जीवन में आने वाली परेशानियां और उससे निपटने के तरीकों में जब असंतुलन होता है तो व्यक्ति आत्महत्या की ओर बढ़ने लगता है.

गड़वार में राष्ट्रीय पोषण माह का हुआ शुभारंभ

गड़वार ब्लॉक सीडीपीओ वह ब्लॉक प्रमुख प्रतिनिधि द्वारा हरी झंडी दिखाकर आगनवाड़ी कार्यकत्रियों द्वारा पोषण माह का हुआ शुभारंभ निकाला रैली

बागी बलिया के लाल ने बिहार में जाकर लहराया परचम

डॉ धीरज कुमार पांडे को वर्ष 2015 में समस्त स्नातकोत्तर परीक्षा में प्रथम स्थान प्राप्त करने पर काशी हिंदू विश्वविद्यालय का सर्वोच्च पुरस्कार (चांसलर मेडल) माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के हाथों से प्रदान किया जा चुका है तथा इन्होंने राज्य स्तरीय स्पर्धाओं में कई बार प्रथम स्थान तथा राष्ट्रीय स्तर के प्रतियोगिताओं में प्रथम स्थान प्राप्त कर अपने गांव के साथ जनपद का नाम रोशन किया है. अभी वर्तमान में ये कविकुलगुरु कालिदास संस्कृत विश्वविद्यालय रामटेक नागपुर में बतौर असिस्टेंट प्रोफेसर पद पर कार्यरत हैं इनके द्वारा अभी तक 20 से ज्यादा राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर की पत्रिकाओं में लेख प्रकाशित किये जा चुके हैं.

गड़वार: वेबकास्ट के माध्यम से महिलाओं को पोषण पाठशाला का किया आयोजन

बाल स्वास्थ्य एवं पोषण के मुद्दों पर सामुदायिक जागरूकता लाने के उद्देश्य से माननीय प्रधानमंत्री जी की दूरदर्शिता और माननीय मंत्री जी उत्तर प्रदेश की प्रेरणा से जीवन की हजार प्रथम दिन को लक्षित करते हुए गर्भवती एवं धात्री महिलाओं एवं क्षमा से 6 वर्ष तक के बच्चों को पोषण एवं स्वास्थ्य में सुधार लाने के किया जा रहा है.

हर कर्म का फल मनुष्य को भोगना ही पड़ेगा- जीयर स्वामी

भ्रूण हत्या से लगते हैं पांच तरह के पाप -जीयर स्वामी दुबहर, बलिया. गर्भ के बालक की हत्या नहीं करनी चाहिए. भ्रूण हत्या से वंश …

मानव जीवन में नहीं होता मनोरथ का अंत – जीयर स्वामी

मानव जीवन में मनोरथ का अंत नहीं होता. बल्कि एक पूरा हुआ नहीं, कि दूसरा मनोरथ खड़ा हो जाता है. बालपन से वृद्धावस्था तक उम्र के हर पड़ाव पर स्नेह और कामनाएं बदलती रहती हैं, लेकिन सुख मृग-तृष्णा बना रहता है.

हरिनाम संकीर्तन व सत्संग से ही कलयुग में होगा मानव का उद्धार – जीयर स्वामी

क्षेत्र में हो रहे चातुर्मास यज्ञ के दौरान शुक्रवार की देर शाम श्रीमद् भागवत महापुराण की कथा सुनाते हुए संत लक्ष्मी प्रपन्न जीयर स्वामी जी महाराज ने कहा कि नैमिषारण्य की धरती पर सूत जी महाराज से शौनक ऋषि ने पूछा कि कलयुग में मानव का उद्धार कैसे होगा ,जिस पर कथा सुनाते हुए सूत जी महाराज ने कहा कि हरिनाम संकीर्तन और सत्संग से ही मानव का उद्धार कलयुग में होगा. सूत जी महाराज ने ऋषियों को भागवत जी के महिमा को सुनाते हुए कहा कि भागवत सभी वेद उपनिषद एवं धार्मिक ग्रंथों का सार है.

विद्यार्थी जीवन बहुमूल्य समय है, लक्ष्य ऊंचा रखें और इंसान बने- उप जिलाधिकारी

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि बैरिया के उप जिलाधिकारी आत्रेय मिश्र ने कहा कि विद्यार्थी जीवन में लक्ष्य का बड़ा ही महत्व है, आप सब लोग अपना लक्ष्य जरूर निर्धारित करें और यह ध्यान रहे कि लक्ष्य बड़ा हो और उसके लिए जो भी इस प्रकार की तैयारी करनी है वैसी तैयारी में जी जान से लग जाए तभी सफलता मिलेगी. बिना तैयारी के कठिन साधना के लक्ष्य मिलेगा नहीं.

अपनी इंद्रियों और आहार व्यवहार को नियंत्रित करना ही सन्यास- जीयर स्वामी

दूसरों के निमित्त किया गया कार्य विशेष फलदाई होता है. मनुष्य को अपनी संस्कृति और संस्कार के अनुसार ही जीवन जीना चाहिए. उक्त बातें महान मनीषी संत श्री त्रिदंडी स्वामी जी महाराज के परम शिष्य लक्ष्मी प्रपन्न जीयर स्वामी जी महाराज ने भृगु क्षेत्र में जनेश्वर मिश्र सेतु एप्रोच मार्ग के निकट हो रहे चातुर्मास व्रत के दौरान बुधवार की देर शाम प्रवचन में कही.

गृहस्थ रहते हुए भी पवित्र जीवन जीने वाला व्यक्ति भगवत कृपा का अधिकारी – जियर स्वामी

प्रवचन के दौरान श्रीमद् भागवत कथा पर चर्चा करते हुए उन्होंने बताया कि भागवत को ही अमर कथा कहा जाता है। जब माता पार्वती ने भगवान शिव से कथा सुनने की जिद की. तो वे उन्हें अमरनाथ ले गए. जहां कथा के दौरान सुकदेव जी महाराज ने उसका श्रवण किया. फिर उसे कालांतर में लिपिबद्ध किया गया.

सोशल मीडिया में छाया रहा योग दिवस

रेवती थाना प्रांगण में विश्व योग दिवस पर पुलिस फोर्स के जवानों ने प्रभारी निरीक्षक रामायण सिंह के नेतृत्व में योगाभ्यास करते हुए पसीना बहाया. मंगलवार के तड़के थाना प्रांगण में जुटे जवानों द्वारा पूरे मनोयोग से योगाभ्यास किया गया. उधर मुड़ाडीह में भाजपा मंडल अध्यक्ष सत्येंद्र सिंह की मौजूदगी में भाजपा मंडल के शक्ति केन्द्र पर शक्ति केन्द्र के संयोजक अजय सिंह के नेतृत्व में लोगों ने योगाभ्यास किया.

माता पिता को प्रसन्न रखना ही दुनिया का सबसे बड़ा तीर्थ और व्रत- जीयर स्वामी

वैदिक सनातन धर्म के बारे में चर्चा करते हुए जीयर स्वामी ने कि सनातन धर्म समस्त प्राणियों के साथ – साथ प्रकृति का भी सम्मान करना सिखाता है. कहा कि ईश्वर की आराधना करने से संस्कार का प्रादुर्भाव होता है. उन्होंने उपस्थित लोगों को बताया कि जो व्यक्ति दान और दया की भावना रखता है वही समाज में आदर्श स्थापित करता है

विद्यार्थियों को इंडस्ट्री के काबिल बनाया जाएगा: कुलपति

विश्वविद्यालय की कुलपति प्रोफ़ेसर निर्मला एस. मौर्य ने कहा कि इस समझौता से हमारे विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों को इंडस्ट्री के लिए तैयार करेगा और यह कंपनी हमारे विद्यार्थियों को ट्रेंड करने के साथ-साथ बातचीत और उनका मार्गदर्शन करती रहेगी.

संघ लोक सेवा आयोग में चयनित सृष्टि सिंह ने यूपीएससी की तैयारी कर रहे युवाओं को दिया संदेश

बलिया लाइव के रेजिडेंट एडिटर केके पाठक को दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू के कुछ अंश आप भी पढ़ें.

पीयूष ने अभावों के बीच संघर्षों से लिखी सफलता की इबारत

सन् 2018 में आईआईटी कानपुर से बीटेक करने के बाद दिल्ली चले गए और वहीं जाकर उन्होंने सिविल की तैयारियां शुरू कर दी. पीयूष ने अपने करियर में यूपीएससी की परीक्षा चौथी बार दी थी,पहले प्रयास में वह इंटरव्यू तक पहुंचने के बाद असफल हो गए थे उसके बाद वह काफी निराश हो गए थे, परंतु हिम्मत नहीं हारे आखिर चौथी बार के प्रयास में उन्होंने यह परीक्षा क्रैक कर दी और ऑल इंडिया 428 रैंक प्राप्त की

संंघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा में सृष्टि को मिला 180 वां रैंक

यूपीएससी की परीक्षा में 180 वी रैंक प्राप्त करने वाली सृष्टि सिंह से दूरभाष से बात होने के बाद उन्होंने बताया कि मुझे नौवीं की पढ़ाई के दौरान ही मेरे पिता प्रमोद कुमार सिंह उर्फ पप्पू सिंह ने प्रेरणा देकर प्रेरित किया की आईएएस, आईपीएस बनो. मैं बीएससी कंप्यूटर साइंस से करने के बाद तैयारी में लग गई.

विश्वविद्यालय परिवार के हर चेहरे पर मुस्कान होः प्रो. निर्मला एस. मौर्य

वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के बौद्धिक संपदा अधिकार प्रकोष्ठ और पेटेंट डिजाइन एंड ट्रेडमार्क महानियंत्रक कार्यालय के सहयोग से एक दिवसीय वर्कशॉप का आयोजन शुक्रवार को आर्यभट्ट सभागार में किया गया. यह कार्यशाला आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत की जा रही है. इसमें नेशनल इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी एवरनेस मिशन(एनआईपीएएम) की ओर से बौद्धिक संपदा अधिकार के संबंध में जागरूक किया गया.

व्यक्तित्व विकास में भावना की अहम् भूमिका: प्रो.निर्मला एस. मौर्य

कार्यक्रम के संयोजक व मुख्य वक्ता डॉ. रसिकेश ने कहा कि भावनाओं को रणनीतिक तरीके से संतुलित किया जा सकता है , भावनाओं को हमेशा सम्हालकर और लोगों को समझकर जिंदगी को आसान किया जा सकता है. कार्यक्रम में कहानी हाउस हाउस का मंचन किया गया.

शिक्षक समाज का एक आईना है- बीइओ

दोनों खंड शिक्षा अधिकारियों ने शिक्षकों को संबोधित करते हुए कहा कि शिक्षक समाज का एक आईना है शिक्षक विद्यार्थियों में आचरण और संस्कार भरने के साथ ही उन्हें शिक्षा से अलंकृत करते हैं. जो उन्हें जीवन पर्यंत काम आते हैं. इसीलिए शिक्षकों को गुरु की उपाधि मिली हुई है. जिन्हें शास्त्रों में भगवान से भी बड़ा बताया गया है.

मां की जगह कोई नहीं ले सकता – एसडीएम सीमा पाण्डेय

एसडीएम सीमा पाण्डेय जी ने अपने उद्बोधन में बच्चों के कार्यक्रम की सराहना करते हुए मां की संज्ञा इस धरा पर साक्षात मौजूद भगवान से कि उन्होंने कहा कि इतने बड़े जहान में मां की जगह कोई नहीं ले सकता