युवाओं ने लिया गंवई संस्कृति कायम रखने का संकल्प

जय मां काली सेवा समिति, नगवा के तत्वावधान में 24 घंटे का हरि नाम कीर्तन सम्पन्न हुआ. कार्यक्रम के समापन के मौके पर वक्ताओं ने गांव की परंपरा एवं संस्कृति को कायम रखने पर बल दिया.

श्रीराम सिंह के ‘विश्वामित्र के राम’ का लोकार्पण

हिन्दी दिवस पर श्रीराम सिंह द्वारा लिखित पुस्तक ‘विश्वामित्र के राम’ का लोकार्पण गौरी शंकर राय कन्या महाविद्यालय करनई मे हुआ. इस अवसर पर गोष्ठी का भी आयोजन हुआ. गोष्ठी का शुभारंभ मां सरस्वती के चित्र पर दीप प्रज्वलित कर किया गया.

मखदूम साहब के सालाना उर्स पर उमड़े जायरीन

काजीपुर के जाहिदीपुर के मखदूम साहब के सालाना उर्स के मौके पर बुधवार को हजारों जायरीनों ने उनके मजार शरीफ पर चादरपोशी किया एवं फातिहा पढ़ा.

एक दूसरे से गले मिल सामाजिक सौहार्द पेश किया

ईद उल अजहा (बकरीद) त्यौहार बड़े ही हर्षोल्लाष के साथ मनाया गया. हिन्दू मुस्लिमो ने एक दूसरे से गले मिलकर सामाजिक सौहार्द पेश किया.

लखनेश्वर डीह में भागवत कथा कलश यात्रा आज

लखनेश्वर डीह स्थित विष्णु मंदिर पर आयोजित सात दिवसीय श्रीमद् भागवत कथा की कलश यात्रा 14 सितम्बर को निकाली जायेगी. उक्त आशय की जानकारी मंदिर के पुजारी दीनदयाल दास उर्फ़ बालक दास ने दी. कहा की मथुरा बृंदाबन से पधारे आचार्यों कथा का रसपान करायेंगे. कलश यात्रा में अधिक से अधिक श्रद्धालुओं को भाग लेने का आह्वान किया.

चंद्रिका प्रसाद की पुण्यतिथि पर बांटे गए भोजन

बलिया के पूर्व सांसद एवं स्वतंत्रता संग्राम सेनानी स्वर्गीय चंद्रिका प्रसाद की 17 वीं पुण्यतिथि पर मंगलवार को अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की ओर से बालेश्वर मंदिर हनुमानगढ़ी मंदिर व रेलवे स्टेशन पर निर्धन व असहाय लोगों के बीच 101 भोजन के पैकेट वितरित किए गए.

आज भी यहां झूठ बोलने की हिम्मत कोई नहीं करता

स्वामी जी के समाधि पर जाकर आज भी कोई झूठ बोलने कि हिमाकत नहीं करता हैं. बड़े से बड़े मामले स्वामी जी के समाधि पर पहुंचने से पहले ही हल हो जाते हैं. लाखों के मामले स्वामी जी का नाम लेते ही हल हो जाते हैं. यहां के थाने व कचहरी में जो मामले हल नहीं होते स्वामी जी की समाधि पर चुटकी में हल हो जाते है.

कठौड़ा घाट पर बप्पा की प्रतिमाओं का दिव्य विसर्जन

सिकंदरपुर नगर में बैठाई गई प्रतिमाओं के शनिवार की रात में विसर्जन के साथ ही यहां गणेश पूजन उत्सव संपन्न हुआ.

गोड़ऊ, धोबऊ लोक नृत्य के साथ जलवा बिखेरा

बिल्थरारोड नगर का प्रसिद्ध ऐतिहासिक महावीरी झण्डा जुलूस मंगलवार को अपराह्न 2 बजे बड़े ही धूमधाम व हर्षोल्लास के साथ निकाला गया. जुलूस मे हाथी, घोड़े, ऊॅट व अनेक नयनाभिराम झाकियां, लोक नृत्य, डीजे की धुन पर युवाओं की टोली, विभिन्न अखाड़ेदारों द्वारा हैरतअंगेज कारनामे लोगो के आकर्शण का केन्द्र रहा.

सुखपुरा में निकाली गई राधा-कृष्ण की दिव्य झांकियां

ओम जय श्री कृष्ण भक्त कमेटी, गुदरी बजार, सुखपुरा के तत्वावधान में भगवान श्री कृष्ण के छठीयार के अवसर पर बुधवार को मुरलीधर की शोभा यात्रा निकली.

श्रीकृष्ण रूप सज्जा में रूद्र प्रथम, सोनाली द्वितीय

चन्द्रशेखर नगर स्थित शक्ति स्थल स्कूल पर श्रीकृष्ण रूप सज्जा प्रतियोगिता आयोजित की गई. कार्यक्रम का उद्घाटन विद्यालय के प्रबन्धक दुर्गादत्त त्रिपाठी ने द्वीप प्रज्वलित कर किया.

सामाजिक क्रान्ति के जनक थे सन्त नारायण गुरु

सामाजिक क्रान्ति के महान सन्त नारायण गुरू की 161वीं जयन्ती की पूर्व संध्या पर गुरुवार को बाबा साहब डॉ. भीमराव अम्बेडकर संस्थान कलेक्ट्रेट कम्पाउण्ड में विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया.

नंद के घर आनंद भयो, जय कन्हैया लाल की

नगवा गांव में स्थित राधाकृष्ण ठाकुर बाड़ी में बृस्पतिवार को श्री कृष्ण जन्माष्टमी का पर्व धूमधाम से मनाया गया. इसके अलावा सनबीम विद्यालय अगरसण्डा, गोला रोड स्थित कैलाश धाम (ठाकुर जी) के मन्दिर परिसर और बलिया पुलिस लाइन में भी धूमधाम से मनाई गई.

श्रीनाथ पूजन को राजनीतिक रंग देने पर ऐतराज जताया

श्रीनाथ बाबा का रोट पूजन की परम्परा हर हाल में कायम रखी जाएगी. इसके लिए क्षेत्रीय जनता का भी सहयोग लिया जाएगा. ऐसा कहना है रसड़ा पूजा कमेटी के अध्यक्ष डॉ. भानु प्रताप सिंह का.

पश्चिम के प्रभाव से हमें नुकसान हुआ – उपाध्याय

पश्चात्य संस्कृति के प्रभाव ने 21 वीं सदी में भारतीय संस्कृति को काफी क्षति पहुंचाया है. भारतीय संस्कृति को बचाने व भावी पीढ़ी को सांस्कृतिक व नैतिक मूल्यों से जोड़ने में भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा एवं गायत्री परिवार का योगदान मील का पत्थर साबित होगा.

संत गणिनाथ पूजनोत्सव तीन को

पुरानी संघत स्थिति मन्दिर पर अखिल भारतीय मद्धेशिया वैश्य (कान्दू) समाज की बैठक भुआल जी की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई. संत गणिनाथ जी की तीन सितम्बर को आयोजित पूजनोत्सव, जन्मोत्सव की तैयारी की समीक्षा की गई. अधिक से अधिक भक्तों को इस कार्यक्रम में पहुचने का आह्वान किया गया.

19 अगस्त 1942, आज ही के दिन बलिया हुआ था स्वाधीन

बैरिया मैं तिरंगा फहराने तथा पुलिस फायरिंग में भारी संख्या में लोगों के शहीद होने के बाद जहां ब्रिटिश हुकूमत घबरा गई थी, वहीं पर बलिया के बच्चे, बूढ़े, जवान सभी में अंग्रेजी सरकार के खिलाफ बगावत कूट-कूट कर भर गया था.

आठ अखाड़ों के बजरंगियों ने छुड़ाए पसीने

बलिया में महावीरी झंडा जुलूस करतब प्रदर्शन के दौरान भारी संख्या में बजरंगी शामिल हुए. विष्णुपुर मस्जिद से अखाड़ों को पास कराने में जिला प्रशासन का पसीना छूट गया.

बहना ने भाई की कलाई पर प्यार बांधा

जिले में सुबह से ही रक्षा बंधन की धूम रही. बहनों ने भाइयों के कलाइयों पर राखी बांध जीवनभर रक्षा करने का बचन लिया, वहीं भाइयों के सलामती के लिए भगवान से दुंआ मांगी.

लाठियों संग हैरतअंगेज प्रदर्शन, योगी रहे मुख्य आकर्षण

श्रीनाथ मठ पर लाखों श्रीनाथ भक्तों ने लाठियों द्वारा शक्ति प्रदर्शन कर अपने इष्ट देव को प्रसन्न किया. लाठियों के संगम से पूरी नाथ नगरी गुंजायमान रही.

जॉर्ज पंचम की ताजपोशी के विरोध में निकला महावीरी झंडा जुलूस

जंगे आजादी में युवाओं के योगदान, छात्र शक्ति राष्ट्र शक्ति की बानगी है बलिया का महावीरी झंडा जुलूस. ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर पांडुलिपि संरक्षण मिशन के जिला समन्वयक शिवकुमार सिंह कौशिकेय ने बताया कि ब्रितानी गुलामी के अमंगल को मिटाने के लिए प्रथम बलिदानी मंगल पांडेय की धरती पर उनकी बगावत के 52 साल बाद जॉर्ज पंचम की ताजपोशी के विरोध में महावीरी झंडा जुलूस की शुरुआत हुई थी.

योगी आदित्यनाथ, विजय मिश्र, नीरज शेखर आज रसड़ा में

श्रीनाथ मठ पर आयोजित ऐतिहासिक रोट पूजन की सारी तैयारियां पूरी कर ली गयी है. नाथ नगरी में दिखेगा युद्ध जैसा मंजर. लाखो श्रीनाथ भक्त अपने लाठियों संग आज अपने शौर्य का प्रदर्शन करते हुए पूजा करेंगे.

रसड़ा में भी धूमधाम से मनाया गया स्वतंत्रता दिवस

स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर सरकारी कार्यालयों, विभिन्न स्कूलों, प्राइवेट संस्थानों, ग्राम सभाओ में झंडारोहण कर मिष्ठान वितरण के साथ साथ विविध प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए.

नाटक द लीजेन्ड आफ भगत सिंह का मंचन आज

नगर की साहित्यिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक संस्था संकल्प के बैनर तले 17 अगस्त को सायं सात बजे से बापू भवन टाउन हाल में नाटक द लीजेन्ड आफ भगत सिंह का मंचन होगा. संकल्प संस्था के सचिव रंगकर्मी आशीष त्रिवेदी की देखरेख में कलाकार पिछले कई दिनों से इसके रिहर्सल में जुटे हुए थे.

चाक चौबंद सुरक्षा के बीच निकला झंडा जुलूस

सुखपुरा नगर का ऐतिहासिक महावीरी झंडा जुलूस मंगलवार को चाक चौबंद सुरक्षा व्यवस्था के बीच कस्बे के सुनरसती के महावीर मंदिर से वैदिक मंत्रोच्चार के बीच निकला. नगर के विभिन्न मार्गों से होते हुए पुन: मंदिर पर जाकर समाप्त हुआ.