ग्राम पंचायत जगदेवा के सैकड़ों ग्रामीणों ने निकाला जुलूस, पांडेपुर ढाला पर 6 सूत्री मांग को लेकर बैठे क्रमिक अनशन पर

This item is sponsored by Maa Gayatri Enterprises, Bairia : 99350 81969, 9918514777

यहां विज्ञापन देने के लिए फॉर्म भर कर SUBMIT करें. हम आप से संपर्क कर लेंगे.

बैरिया, बलिया. राष्ट्रीय राजमार्ग-31 पर स्थित पांडेयपुर ढाला पर गुरुवार को ग्राम पंचायत जगदेवा के सैकड़ों ग्रामीण नारा लगाते हुए अपने गांव से जुलूस की शक्ल में निकले और पांडेपुर ढाला पर 6 सूत्री मांग को लेकर क्रमिक अनशन पर बैठ गए.

 

आंदोलित ग्रामीण मुख्य रूप से गांव के कोटेदार के भ्रष्टाचार के खिलाफ आक्रोशित हैं. गांव के संतोष सिंह ने बताया कि विगत 25 सितंबर को रात में हमारे गांव के ग्रामीणों द्वारा कोटेदार प्रदीप सिंह के दरवाजे से 51 पैकेट चावल लादकर ले जा रहे एक पिकअप को पकड़ा, पुलिस को सौंप दिया. वह कोटेदार घाटतौली और भ्रष्टाचार के माध्यम से इकट्ठा कर पलट कर दूसरे पैकेट में भरकर बाजार में बेचने के लिए जा रहा था.

 

26 सितंबर को ग्रामीण बैरिया थाने में पहुंचे और उस संबंध में अपनी बात रखना चाहे तो वहां पर मौजूद एसडीएम और एसएचओ ने हम ग्रामीणों को बाहर खदेड़ दिया और पूर्ति निरीक्षक से जांच करा कर यह बताया गया कि कोटेदार का स्टाक ठीक-ठाक पाया गया कह कर मामले को रफा-दफा कर दिया गया.

 

इस मामले में बैरिया का कोई व्यापारी भी सामने आया जो यह कहा है कि हम गांव में से खरीदे हैं. संतोष सिंह ने बताया कि हमारे गांव में धान की खेती नहीं होती है. फिर यहां से चावल बेचने का सवाल कहां से उत्पन्न होता है. अगर यह कहा जाए किस सरकारी चावल जो लोग कोटे की दुकान से निशुल्क प्राप्त किए हैं वह बेच रहे हैं. तो यह और बड़ा भ्रष्टाचार है. इसमें खरीदने वाला और बेचने वाला दोनों दोषी होगा देशद्रोही होगा. क्योंकि सरकार भरण पोषण के लिए गेहूं चावल निशुल्क दे रही है बेचने के लिए नहीं. यह पूछने पर कि कि कोटेदार का कहना है कि जो लोग शिकायत करते हैं वह लोग हमारे कार्डधारक नहीं है के जवाब में वहां धरना स्थल पर बैठे दर्जनों ग्रामीण यह चिल्लाने लगे कि हम लोग तो उन्ही के कार्डधारक है.

 

आंदोलित लोगों ने बतलाया कि हम लोगों ने तहसील संपूर्ण समाधान दिवस पर जिलाधिकारी को भी अपनी 6 सूत्री मांगों को लेकर पत्रक दिया था. जिलाधिकारी ने आश्वासन दिया था और एसडीएम को जांच सौंपा था, एसडीएम ने 3 अक्टूबर तक हम लोगों से मिलकर मामले का निस्तारण करने का आश्वासन दिया था लेकिन ऐसा नहीं हुआ. हमें विवश होकर क्रमिक अनशन पर बैठना पड़ रहा है. अगर इस पर भी सुनवाई नहीं हुई तो हम लोग क्रमिक अनशन को आमरण अनशन में तब्दील कर देंगे.

 

आंदोलित लोगों की 6 सूत्रीय मांगों में राशन भ्रष्टाचार के अलावा आर्सेनिक मुक्त जल आपूर्ति के लिए गांव में पहले से स्थापित पानी टंकी को शुरू करना, ग्राम सभा जगदेवा में मुख्य मार्ग से जोड़ने वाले संपर्क मार्गों की मरम्मत, जर्जर हो चुके हाईटेंशन बिजली के तारों को बदलने, दियारा क्षेत्र में जाने के लिए भानगढ़ नाला पर ध्वस्त पुलिया का पुनर्निर्माण कराने आदि मांगे प्रमुख हैं.

 

पांडेपुर में क्रमिक अनशन और धरना पर बैठने वालों में बच्चा सिंह गणेश सिंह जवाहर सिंह संजय पासवान बाबू जान हाशमी संजय मिश्र सुनील पांडे विनय सिंह सुनील सिंह खोखन चौधरी मुन्ना सिंह एलपी सिंह भरत तिवारी मनु मिश्रा, पूर्व प्रधान उत्तील यादव आदि आज सैकड़ों लोग रहे. धनारत लोगों के समर्थन में कांग्रेस नेता एवं जिला पंचायत सदस्य प्रतिनिधि विनोद सिंह भी धरना स्थल पर मौजूद रहे.

(बैरिया संवाददाता वीरेंद्र मिश्र की रिपोर्ट)