दो दर्जन मरीजों को लेकर सीएमओ आवास पहुंचे नेताजी, सवालों के जवाब नहीं दे पाए सीएमओ

बलिया. बलिया जिले समेत पूरे देश में ही कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं, तमाम एहतियात बरते जा रहे हैं और बेहतर इलाज के लिए इंतजाम किए जा रहे हैं लेकिन बलिया जिले के सीएमओ डॉ.राजेंद्र प्रसाद इसके लिए कितने तैयार हैं इसे जान कर आपको हैरानी होगी.

बलिया के मुख्य चिकित्सा अधिकारी को यह तक पता नही की जनपद को वर्तमान कोविड महामारी के दौर में कितना मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आवश्यकता है और वर्तमान में कितना ऑक्सीजन उपलब्ध है. कोविड एल-1बन्द है या चालू है, इसकी भी सही जानकारी बलिया के सी. एम.ओ. को नही है.

दरअसल शुक्रवार को समाजवादी पार्टी के नेता और पूर्व मंत्री नारद राय लगभग दर्जन भर एम्बुलेंसो और कुछ अपने निजी साधनों से लगभग दो दर्जनभर मरीजो को लेकर सीएमओ आवास पहुंच गए और कहे कि चिकित्सालय में इन मरीजो का इलाज नहीं हो रहा है. आप स्वास्थ्य विभाग के जिले के आला अफसर है, आप ही बताइए ये मरीज कहां जायं. इसका कोई उत्तर मुख्य चिकित्सा अधिकारी नहीं दे पाए.

 



मीडिया की मौजूदगी में जब पूर्व मंत्री नारद राय ने सीएमओ बलिया से जानकारी चाही कि जिला चिकित्सालय में लगे वेंटिलेटर,सिटी स्कैन, डायलिसिस,आरटीपीसीआर लैब सहित अन्य जांच और दवाई तथा लोगो के जिंदगी बचाने के लिए ऑक्सीजन का क्या इंतजाम जनपद में है तो इन सब चीजों की जानकारी सीएमओ नहीं दे पाए और उठ कर यह कहते हुए चले गए कि कंप्यूटर से देख कर बताते है, लेकिन फिर भी नहीं बता पाए.
जब ऑक्सीजन की स्थिति बताने लगे तो वहाँ उपस्थित मीडिया कर्मी सहित सभी लोग आश्चर्य चकित हो गए और यह कहने लगे कि बलिया को मौत के मुँह में धकेल दिया गया है. आवश्यकता के सापेक्ष 10 प्रतिशत भी ऑक्सीजन उपलब्ध नही है. बलिया जनपद और यहाँ के लोग ईश्वर के भरोसे ही है.
इस मौके पर नारद राय ने कहा कि कोरोना गाइड लाइन्स में है कि जब किसी व्यक्ति की मृत्यु कोरोना से होगी तो तत्काल उसके परिवार एव संपर्क में आये सभी की जांच स्वस्थ्य विभाग करेगा लेकिन दुर्भाग्य है कि बलिया में इस गाइड लाइन का पालन भी नहीं हो रहा है जिससे जनपद में कोरोना दिन प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है.

नारद राय का कहना था कि जांच रिपोर्ट 5 से 6 दिन में आ रही है, तब तक सैम्पल देने वाला व्यक्ति चारों तरफ घूम रहा है तो इससे संक्रमण फैलेगा ही. वर्षो से कीमती जांच मशीने बलिया चिकित्सालय में लगी है लेकिन मात्र दो लैब टेक्नीशियन की तैनाती न होने के कारण वह मशीन धूल फांक रही है.
सीएमओ साहब के अनुसार उनके पास टेक्नीशियन रखने और उसका खर्च वहन करने के लिए धन नहीं है. सीएमओ ने कहा कि हम 20 कंप्यूटर ऑपरेटर रिसोर्सेज से नया रखने जा रहे है. इस पर वहां उपस्थित पूर्व विधायक संग्राम सिंह यादव ने कहा कि एक तरफ आप के पास फार्मासिस्ट रखने के लिए धन नही है और दूसरे तरफ कह रहे है कि 20 कंप्यूटर ऑपरेटर रखने जा रहे है . इससे यह स्पष्ट हो रहा है कि आप को बलियावासियो की जिंदगी से कोई लेना-देना नहीं है.

समाजवादी पार्टी के जिला अध्यक्ष राज मंगल यादव ने कहा कि जनपद के समस्त सी ए. सी.और पी. ए.सी की हालत बद से बदतर है. साधारण दवाएं भी वहाँ उपलब्ध नही है जिसका सीएमओ के पास कोई जबाब नही था. पूर्व दर्जा प्राप्त मंत्री व्यास जी गोंड़ ने कहा कि जिले में ना जांच है,और न दवा है . जब सीएमओ बलिया ने एम्बुलेंस से गए मरीजो के इलाज में अपने को असमर्थ बताया तो वहाँ से सभी एम्बुलेंस एव निजी गाड़िया नगर के एक प्रतिष्ठित निजी चिकित्सालय में मरीजो को ले गई और पार्टी के तरफ से सभी का मुफ्त जांच एव इलाज कराया गया.

सपा प्रवक्ता सुशील पाण्डेय”कान्हजी”ने बताया कि आज समाजवादी पार्टी सिर्फ स्वास्थ्य विभाग को जगाने के लिए वहाँ गई थी और साथ ही जनपद के चिकित्सा व्यवस्था को पारदर्शी एव सुदृण बनाने हेतु सहयोग करने की बात कहने गई थी इसी क्रम में पार्टी नेताओं ने सीएमओ से कहा भी कि आप खाली सिलेंडर हम लोगो को दीजिए हम लोग अपनी पार्टी तथा निजी स्रोतों से उसे निःशुल्क भरवाकर आप की दे रहे है लेकिन स्वास्थ्य विभाग इस पर भी तैयार नही हुआ.

इस अवसर पर सपा नगर विधानसभा अध्यक्ष अजय यादव,अजय शंकर यादव,राजन कनौजिया,कामेश्वर यादव प्रधान,संजय यादव प्रधान,प्रेम शंकर चतुर्वेदी,चितेश्वर यादवप्रधान,परमात्मा पाण्डेय,अजीत यादव,श्याम बिहारी पाण्डेय, पप्पू खा,मुलायम खा कृष्णा राय,विपिन तिवारी,मदन वर्मा आदि लोग उपस्थित रहे.

(बलिया से कृष्णकांत पाठक की रिपोर्ट)

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.