पांडेयपुर के ग्रामीणों ने आधी रात को पकड़ा पिकअप पर लदा 51 बोरी चावल

बैरिया, बलिया. थाना क्षेत्र के पाण्डेयपुर गांव के निकट रविवार की आधी रात को पांडेयपुर के ग्रामीणों ने पिकअप पर लादकर बैरिया की तरफ जा रहे 51 बोरी यानी 25.5 कुंतल चावल पकड़कर पुलिस को सौप दिया. ग्रामीणों का आरोप है कि यह चावल सरकार द्वारा सार्वजनिक वितरण की दुकान से नि:शुल्क वितरण के लिए भेजा गया चावल है जो कोटेदार द्वारा कालाबाजारी किया जा रहा था. ग्रामीणों का यह भी कहना था कि हमारे क्षेत्र में धान की खेती नहीं के बराबर होती है. जिस गांव से यह चावल जा रहा था उस गांव के ग्रामीण 20 25 कुंतल चावल कहां से बेचेंगे जब इसकी खेती ही नहीं होती‌ यह चावल कोटेदार का है जो कालाबाजारी के लिए जा रहा था। पुलिस ने चावल लदे पिकअप को कब्जे में लेकर चालक को हिरासत में ले लिया है। ग्रामीणों के अनुसार चावल कोटे का है जो काले बाजार में बेचने को जा रहा था.

बताते चलें की रविवार की रात लगभग 11 बजे पिकअप यूपी 60 ए टी 1854 पर 51 बोरी चावल लादकर पांडेयपुर से बैरिया के तरफ चला ही था कि उक्त गांव के ही पूर्व प्रधान उत्तिल यादव के भाई लक्ष्मण यादव व उनके सहयोगी सोनू यादव,राजेन्द्र यादव,गणेश सिंह,कन्हैया यादव,रामेश्वर यादव आदि ने पिकअप रूकवाकर ड्राइवर को पकड़ लिया और इसकी सूचना 112 डायल पुलिस को दी. 112 डायल पुलिस ने मौके पर पहुचकर मामले को देखा और मौके से ही एसएचओ बैरिया धर्मवीर सिंह से बात की. एसएचओ भी मय फोर्स रात ही मौके पर पहुंच गए. चावल लदी पिकअप व ड्राइवर को थाने ले गए।सुबह लक्ष्मण यादव,सोनू यादव आदि दर्जनों लोग थाने पहुचकर एसएचओ को पत्रक दिया और आरोप लगाया कि यह माल कोटे का है. कोटेदार प्रदीप सिंह के दरवाजे से पिकअप पर लादकर बाजार में बेचने के लिए बैरिया लाया जा रहा था. सम्बंधित के खिलाफ मुकदमा कायम किया जाय. वहीं दूसरी तरफ बबलू गुप्ता निवासी बैरिया थाने पहुचकर एसएचओ व एसडीएम बैरिया आत्रेय मिश्र को बताया कि गांव में घूम-घूमकर मैं खाद्यान्न खरीदता हूं।यह खाद्यान्न कोटे का नही है. बल्कि लोगों के यहां से घूम घूमकर खरीदा हूं. मैं अपने घर बैरिया इसे बेचने के लिए ले जा रहा था कि लक्ष्मण यादव आदि ने कोटे का माल बताकर पकड़कर पुलिस को सौप दिया. एसएचओ धर्मवीर सिंह से पूछने पर कहा कि यह प्रकरण मेरे अधिकार क्षेत्र में नहीं है. एसडीएम को पूरी जानकारी दिया हु जैसा निर्देश होगा किया जाएगा। समाचार लिखे जाने तक जांच जारी था.
इस संबंध में एसडीएम आत्रेय मिश्र से जब बात की गई तो उन्होंने बताया कि
जिस कोटेदार का खाद्यान्न बताया जा रहा है. उसका स्टाक व पंजिकाओं की जांच के लिए मौके पर एआरओ नसीम अख्तर व पूर्ति निरीक्षक संजीव कुमार सिंह को भेजा हूं,कारण की एक अन्य व्यक्ति द्वारा दावा किया जा रहा है कि चावल मेरा है,ऐसे में स्टाक की जांच कराना जरूरी है,जांच रिपोर्ट मिलने के बाद उचित कार्रवाई की जाएगी.

(बैरिया से वीरेंद्र मिश्र की रिपोर्ट)