‘मेरी अशेष यात्रा’ पुस्तक का परिचय समारोह का हुआ भव्य आयोजन

This item is sponsored by Maa Gayatri Enterprises, Bairia : 99350 81969, 9918514777

यहां विज्ञापन देने के लिए फॉर्म भर कर SUBMIT करें. हम आप से संपर्क कर लेंगे.

हर क्षेत्र के लोगों को प्रेरित करेगी ‘मेरी अशेष यात्रा’: दयाशंकर

बलिया: ‘मेरी अशेष यात्रा’ पुस्तक का परिचय समारोह का आयोजन मंगलवार को कलेक्ट्रेट स्थित गंगा बहुउद्देश्यीय सभागार में हुआ.

परिवहन मंत्री दयाशंकर सिंह की अध्यक्षता में हुए इस कार्यक्रम में केसरी विश्वविद्यालय, दक्षिणी बिहार, गया के कुलपति प्रो.केएन सिंह बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए. कार्यक्रम का शुभारंभ अतिथियों द्वारा दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया.

 

अपने अध्यक्षीय सम्बोधन में परिवहन मंत्री दयाशंकर सिंह ने कहा कि लेखक अनिल सिंह का राजनीतिक जीवन संघर्ष से भरा हुआ है. निश्चित रूप से अपनी जीवन को अनुभवों को लिपिबद्ध करना बहुत ही कठिन होता है. उस कठिन काम को लेखक अनिल सिंह ने किया है. लखनऊ की गोमती नदी व हरैया बस्ती में बहने वाली मनोरमा नदी की सफाई का बीड़ा यह उठा चुके हैं. आवाह्न किया कि संघर्षों पर आधारित इस किताब को अवश्य पढ़ें.

 

समारोह में मुख्य अतिथि केएन सिंह ने कहा कि सभी लोग खासकर युवा वर्ग किताबें अवश्य पढ़ें, क्योंकि सिर्फ इंटरनेट से पढ़ाई कर स्थायी समाधान व ज्ञान नहीं पाया जा सकता. राष्ट्र के हर सजग प्रहरी को देश का इतिहास-भूगोल जानना चाहिए, जो कि इस पुस्तक में है. इस तरह की पुस्तक लोकतांत्रिक मूल्यों का संवर्धन करती है. उन्होंने कहा कि पुस्तकें सामान्य वस्तु नहीं है, बल्कि व्यक्ति को एक जीवन दृष्टि देती हैं. जीवन दृष्टि देश व राष्ट्र के लिए जीने की होनी चाहिए.

 

कुलपति श्री सिंह ने सभागार में मौजूद बच्चों को सन्देश दिया कि इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी और इंडियन टैलेंट दोनों के माध्यम से छात्र आगे बढ़ने का प्रयास करें, यही हमारे भारत का कल होगा. देश में आदर्श व्यक्तियों का समूह खड़ा करना भी शिक्षा का उद्देश्य है.

 

सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त ने कहा कि आत्मकथा लिखना बहुत ही कठिन कार्य होता है. पुस्तक में लिखी गयी कई घटनाक्रम का जिक्र करते हुए स्वयं की उपस्थिति के अनुभवों को भी साझा किया. वरिष्ठ साहित्यकार जनार्दन राय ने अनिल सिंह की बेबाक लेखनी की तारीफ करते हुए शुभकामनाएं दी. पूर्व मंत्री राजधारी सिंह, पूर्व विधायक सुधीर राय ने अपने सम्बोधन में किताबों को मित्र बनाकर रखने पर बल दिया.

इससे पहले समस्त मंचासीन अतिथियों का स्वागत माल्यार्पण कर व पौधा देकर किया गया. पुस्तक के लेखक अनिल सिंह ने सभी अतिथियों व मौजूद लोगों का स्वागत अभिनन्दन किया. यह किताब राजनैतिक यात्रा की गाथा ही नहीं, बल्कि राजनैतिक चिंतन की भी गाथा है. टीडी कालेज के डॉ अखिलेश राय ने विषय प्रवर्तन करते हुए पुस्तक के बारे में तथा इसमें उल्लिखित हर महत्वपूर्ण तथ्यों को बताया. कहा कि राजनीति, लोकतंत्र व प्रदेश की तमाम घटनाओं की जानकारी लेनी है तो इस पुस्तक को अवश्य पढ़ें.

 

पुस्तक के लेखक अनिल सिंह ने सभी अतिथियों व मौजूद लोगों का स्वागत अभिनन्दन किया. यह किताब राजनैतिक यात्रा की गाथा ही नहीं, बल्कि राजनैतिक चिंतन की भी गाथा है. टीडी कालेज के डॉ अखिलेश राय ने विषय प्रवर्तन करते हुए पुस्तक के बारे में तथा इसमें उल्लिखित हर महत्वपूर्ण तथ्यों को बताया. कहा कि राजनीति, लोकतंत्र व प्रदेश की तमाम घटनाओं की जानकारी लेनी है तो इस पुस्तक को अवश्य पढ़ें.

 

साहित्यकार शिवकुमार सिंह कौशिकेय ने सभी अतिथियों व आगंतुकों के प्रति आभार जताया। संचालन विजय बहादुर सिंह ने किया. समारोह में वरिष्ठ साहित्यकार जनार्दन राय, सहकारी बैंक चेयरमैन विनोद शंकर दूबे, कमलेश सिंह, बेरुआरबारी ब्लॉक प्रमुख चंद्रभूषण सिंह भोला, रसड़ा चेयरमैन प्रतिनिधि वशिष्ठनारायण सोनी, टीडी कालेज के डॉ अखिलेश राय, मुक्तेश्वर सिंह, ज्ञानेंद्र राय गुड्डू, शैलेश सिंह पप्पू, मेजर दिनेश सिंह, विरेन्द्र राय,प्राथमिक शिक्षक संघ जिलाध्यक्ष जितेंद्र सिंह, शिवेंद्र सिंह, रानाकुनाल सिंह, प्रमोद सिंह,विशाल सिंह,सत्य प्रकाश,अंकूर उपाध्याय,राजेश सिंह,पंकज,उमेश सिंह, उपेंद्र सिंह सहित हजारों लोग मौजूद थे.

(बलिया से केके पाठक की रिपोर्ट)