भारत माता की जय से गूंज उठा कस्बा, हजारों स्टूडेंट्ड ने तिरंगा के साथ लगाये नारे

बांसडीह, बलिया. देश भर में आजादी का अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है. वहीं बांसडीह इंटर कॉलेज के छात्र व छात्राओं ने हजारों की संख्या में तिरंगा के साथ बांसडीह कस्बा का भ्रमण किया.

 

आजादी के अमृत महोत्सव का दौर चल रहा है. पूरे भारत वर्ष में हर घर तिरंगा लगाने के लिए जागरूकता भी किया गया. दरसअल आजादी के 75 वर्ष पूर्ण होने पर उक्त अभियान जोरो पर है.

 

शुक्रवार की सुबह में भारत माता की जय, बंदेमातरम का नारा लगाते हुए जनपद के प्रथम शहीद पं. रामदहीन ओझा ,ब्लॉक मुख्यालय बांसडीह स्थित शहीद स्मारक पर पुष्प चक्र अर्पित कर अंबेडकर की प्रतिमा के पास से छात्र छात्राओं की टोली निकल गई.

बांसडीह में ई-रिक्शा पर बैठी छात्राओं का अंदाज अलग ही दिख रहा. भारत माता की जय,बंदेमातरम बोलते हुए जोश कम नही रहा. वहीं पीछे से हजारों की संख्या को लंबी कतार छात्र व छात्राएं जमकर नारा लगाते रहे. ऐसे में नेशनल कैडेट कोर के जवान , बांसडीह कोतवाल राजीव कुमार मिश्र साथ – साथ पूरी पुलिस टीम और बांसडीह इंटर कॉलेज के प्रबंधक संजय कुमार सिंह,प्रधानाचार्य अनिल कुमार पांडेय,अवध बिहारी चौबे,सहित्यकार जनार्दन राय सहित अध्यापक मौजूद रहे.

बांसडीह इंटर कॉलेज के पहुंचे डीआईओएस

बाँसडीह इंटर कॉलेज के कार्यक्रम में जिला विद्यालय निरीक्षक रमेश सिंह ( DIOS ) ने पहुंचकर कार्यक्रम का शुभारंभ किया।जहां कवि सम्मेलन भी आयोजित रहा. इस दौरान डीआईओएस ने कहा कि आजादी अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है. देश के शहीदों के बारे छात्रों को जानकारी दी जा रही है. शासन के निर्देशानुसार हरेक विद्यालय में हर सम्भव कोशिश किया जा रहा है कि मेधावी छात्र जीवन में आगे तरक्की करें. ताकि विद्यालयों का सम्मान बढ़े. उन्होंने कहा कि बांसडीह इंटर कॉलेज की तरफ से शिक्षा के लिए एक मेधावी छात्र को सहयोग प्रदान किया. देखकर बहुत अच्छा लगा.

 

वहीं प्रबंधक संजय कुमार सिंह ( मुन्ना ) ने कहा कि जो बच्चा इंटर कॉलेज बांसडीह पढ़कर आगे बढ़ना चाहेगा।उसे विद्यालय परिवार की तरफ से हर सम्भव प्रयास किया जाएगा. कहा कि प्रधानाध्यक से लेकर अध्यापक तक का सहयोग रहता है कि विद्यालय ही नही इस विद्यालय के बच्चे तरक्की करें.

कवि सम्मेलन रहा शहीदों के नाम

बाँसडीह इंटर कॉलेज परिसर स्थित हाल में लखनऊ से आयी श्रृंगार रस की कवियत्री व्याख्या मिश्रा ने शहीदों के नाम फनकार शुरू किया. शुरुआती समय में ही व्याख्या मिश्रा समा बांध दिया. देश का भाग्य यूं ही संवरता रहें, यह उजाला धरा पर उतरता रहें, शीश धड़ पर रहें ना रहें हे प्रभु, यह तिरंगा गगन में फहरता रहें का शानदार प्रस्तुति किया. लखनऊ से ही आये कवि प्रख्यात मिश्र ने राष्ट्र भक्ति के गीत” राष्ट्र मिलकर लहू में बहे उम्रभर, भारती की जय हम कहें उम्रभर, उम्र छोटी मिले या लम्बी मिलें, पर तिरंगा सरो पर रहें उम्रभर” गीत प्रस्तुत किया. रायबरेली से आये कवि मधुप श्रीवास्तव नरकंकाल ने राष्ट्र से ओतप्रोत कविता” देशभक्त देवताओं ने किया भारत सिंधू का मंथन, तो आजादी का अमृत हुआ उत्पन्न, यह तिरंगा फहराया जायेगा, आजादी का अमृत महोत्सव मनाया जायेगा प्रस्तुत किया.

नवोदित कवियत्री पायल सिंह परिहार ने वीर रस की कविता ” मरें नहीं वे कायरों की मौत, सीने पर गोली खायी थी, लड़ते रहे अंतिम सांस तक भारत का तिरंगा फहराये थे ” प्रस्तुत किया. कवियों ने भारत की राष्ट्र भक्ति व देश प्रेम पर कविताएं प्रस्तुत किया. डीआईओएस ने कहा की प्रदेश सरकार की मंशा के अनुरूप सभी शिक्षक मिलकर बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षण देने का प्रयास करें जिससे बच्चे जीवन में नई उंचाई प्राप्त करें। कालेज के प्रंबधक संजय कुमार सिंह मुन्ना ने डीआईओएस वह अन्य अतिथियों को अंगवस्त्र देकर सम्मानित किया.

 

इस मौके पर डा जर्नादन राय, अवध बिहारी चौबे, कृष्ण देव मिश्र, प्रधानाचार्य अनिल पाण्डेय, गिरीश पाण्डेय, आशीष पाण्डेय, राजेन्द्र मिश्र, पंचानन्द पाण्डेय, राजप्रकाश सिंह दीप्तिमान सिंह राहुल, दयानन्द पाठक आदि थे.

(बांसडीह संवाददाता रवि शंकर पांडेय की रिपोर्ट)