फेसबुक के कोठार से – केदार जी स्मृतियों में गूंजते रहेंगे – अपनी कविताओं की तरह

केदारजी ने मेरे पिताजी की डायरी ‘जग दर्शन का मेला’ की भूमिका लिखी थी. किताब विश्व पुस्तक मेले में जारी हुई. तब केदारजी कोलकाता में अस्पताल में थे. दिल्ली आकर फिर एम्स.

Read more

केदारनाथ सिंह नहीं रहे, घड़ी भर को मानो हिंदी ने साँस रोक ली

हिंदी कविता में नए बिंबों के प्रयोग के लिए जाने जाने वाले वरिष्ठ शब्द शिल्पी केदरानाथ सिंह का सोमवार को दिल्ली में निधन हो गया. वह पिछले कुछ समय से अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान (एम्स) में भर्ती थे.

Read more

पहले ही नहीं चेते तो आषाढ़ में बदल जाएगा बैरिया विधानसभा क्षेत्र का भूगोल

चांददियर मौजा की रफ्ता रफ्ता रोज कट रही कृषि भूमि

Read more

सन सुपर-30 पाठशाला: बिहार के आनंद की राह पर चल रहे द्वाबा के आदित्य

सन सुपर-30 पाठशाला के माध्यम से सवार रहे मासूमों का भविष्य

Read more

​आत्महत्या नहीं है समस्या का समाधान, खुद में विकसित करें सकारात्मक सोच

आत्महत्या नया शब्द नहीं है. यह सदियों से है. लेकिन आज समस्या इस बात की है कि युवा वर्ग  खुदकुशी कर रहा है.

Read more

आज और प्रासंगिक हो गए हैं गाँधी जी के आध्यात्मिक एवं नैतिक विचार

महान मानवतावादी, सच्चे समाज सेवी, सत्य एवं अहिंसा के पुजारी, युग पुरूष राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी ने हमारे समक्ष आदर्श रूप में हिन्दू धर्म पर आधारित स्वानुभव से भरपूर एक ऐसा जीवन दर्शन प्रस्तुत किया है

Read more

अब कब चेतेंगे! खूब मिटाया हमने-तुमने, पानी यूं नादानी में, नहीं बचा धरती पर पानी, बहा व्यर्थ बेईमानी में

जल और जीवन का चोली दामन का साथ है. हमें जीवित रहने के लिए जल तो चाहिए ही प्रकृति प्रदत्त इस जल को संचित करने की व्यवस्था भी हमें ही करनी पड़ेगी.

Read more

जब कुत्ते का मुखौटा लगाये प्रदर्शन कारियों ने सीएमओ को भौंकते हुये घेरा

गाजीपुर। शुक्रवार को सामाजिक कार्यकर्ताओं ने गाजीपुर जिला चिकित्सालय में कुत्तों का मुखौटा लगाकर अनोखा प्रदर्शन किया. कार्यकर्ताओं के हाथों में स्लोगन लिखी तख्तियां थी. जिन पर जिला अस्पताल सहित पूरे जनपद मैं कुत्ता काटने के इंजेक्शन न होने की बात कहते हुए चिकित्सा के मौलिक अधिकार हनन का उल्लेख किया गया था.

Read more

श्रद्धांजलि सभा कर याद किये गये कामरेड शिवजी सिंह एडवोकेट

सुखपुरा(बलिया)।समाज के निर्माण नारों से नहीं नीतियों से होता है. नीतियों पर चलकर ही हम समाज व राष्ट्र को सफल बना सकते हैं. कामरेड शिवजी सिंह एडवोकेट ने अपने पूरे जीवनकाल में गुणवत्ता युक्त राजनीति की. वह दलित शोषित एवं पीड़ितों के हक व हकूक के लिए आजीवन संघर्ष करते रहे. उनके आचरण वह नीतियों को आत्मसात कर हमें समाज और राष्ट्र को आगे ले जाने का संकल्प लेना होगा और यही उनके प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी.

Read more

एक पखवारे से लापता पुत्र को पाकर छलक पड़े आंसू

गाजीपुर जिले के रामगढ़ कथपुरवा से डेढ़ माह पूर्व लापता हुए लड़के का समाचार पत्र में खबर प्रकाशित होने के बाद लड़के को आखिकार रविवार को असली माँ- बाप मिल ही गये.

Read more