Central Desk October 31, 2019
  • सरदार वल्लभभाई पटेल की 144वीं जयंती पर लोगों ने दी श्रद्धांजलि
  • बैरिया विधायक की जनसंवाद यात्रा का सरस्वती विद्या मंदिर में समापन

बैरिया : भारत को एकता के सूत्र में बांधने वाले लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की 144वीं जयंती पर भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह ने सुरेमनपुर रेलवे स्टेशन से बैरिया तक तीन दिवसीय जनसंवाद पदयात्रा का समापन किया. रेलवे स्टेशन पर भाजपा सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त ने भाजपा का झंडा दिखाकर जनसंवाद पदयात्रा को रवाना किया.

इससे पूर्व एक सभा में सरदार पटेल के चित्र पर पुष्प अर्पित कर लोगों ने उन्हें श्रद्धांजलि दी. सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त ने कहा कि जब बैरिया के मिल्की गांव में कांग्रेस का राष्ट्रीय अधिवेशन हुआ था. सुभाष चंद्र बोस उसके अध्यक्ष थे और सरदार वल्लभ भाई पटेल भी यहां आए थे.

सांसद ने कहा कि तब यहां किसानों की समस्याओं को लेकर एक घोषणा पत्र तैयार किया गया था और भारत के इतिहास में सन 1942 में वह घोषणा पत्र यहीं पढ़ा गया था. सांसद ने कहा कि बारदोली किसान आंदोलन की रपट सबसे पहले इसी द्वाबा में पढ़ी गई थी.

उन्होंने बताया कि बलिया जिले के साढ़े सात लाख किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना से सम्मानित किया गया. सांसद ने कहा कि दिल्ली जाने के लिए कई ट्रेनें मिलेंगी. गोंदिया एक्सप्रेस का औपचारिक ठहराव शुरू हो गया है.

सभा को संबोधित करते हुए विधायक सुरेंद्र सिंह ने कहा कि बैरिया विधानसभा क्षेत्र में निरंतर विकास जारी है. अब तो बड़े भाई वीरेंद्र सिंह का भी आशीर्वाद मिल रहा है और बहुत जल्द ही ऐसा समय आएगा कि भाजपा ही बलिया के लिए एकमात्र पार्टी रह जाएगी. उन्होंने कहा कि जिन दिन हमारे प्रधानमंत्री और हमारी सेना चाह लेगी तीन घंटे के अंदर पाकिस्तान भारत का हो जाएगा.

उन्होंने बैरिया विधान सभा क्षेत्र में हो रहे विकास कार्यों की भी चर्चा की. उन्होंने कहा कि यहां के लिए मेडिकल कालेज, पालिटेक्निक स्कूल, राजकीय इंटर कालेज के लिए मुख्यमंत्री जी ने मंजूरी दे दी है. विधायक ने बैरिया विधानसभा क्षेत्र के गांवों से उमड़े लोगों के प्रति आभार जताया.

तीन दिवसीय संवाद पदयात्रा का समापन बैरिया त्रिमुहानी पर मैनेजर सिंह की मूर्ति पर माल्यार्पण के बाद रामनारायण सिंह सरस्वती विद्या मंदिर में हुआ. जनसंवाद यात्रा में शामिल भीड़ के कारण रानीगंज-सुरेमनपुर मार्ग पर काफी देर तक आवागमन बाधित रहा.

इस अवसर पर विजय बहादुर सिंह, मंटू बिंद, अरविंद सेंगर, विनोद सिंह, नंदजी सिंह, हरि सिंह, हरिकंचन सिंह, विपुलेंद्र प्रताप सिंह, कन्हैया सिंह सहित दर्जनों लोगों ने अपने विचार रखे. अध्यक्षता प्रेमशंकर सिंह और संचालन दिलीप गुप्त ने किया.

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.