हुनरमंद को विश्वविद्यालय आगे बढ़ाएं: सांसद सीमा द्विवेदी

कौशल विकास एवं प्रशिक्षण केंद्र में सिलाई मशीन आपरेटर प्रशिक्षण का हुआ उद्घाटन

जौनपुर. वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के कौशल विकास एवं प्रशिक्षण केंद्र में सिलाई मशीन आपरेटर प्रशिक्षण का उद्घाटन मंगलवार को राज्यसभा सांसद श्रीमती सीमा द्विवेदी के कर कमलों द्वारा किया गया.

 

इस अवसर पर बतौर मुख्य अतिथि श्रीमती सीमा द्विवेदी ने कहा कि कौशल हर व्यक्ति में होता है आज इसे पहचान कर उन्हें रोजगार के अवसर उपलब्ध कराना कौशल विकास का उद्देश्य है. विश्वविद्यालय ऐसे लोगों की पहचान कर उनके हुनर का सम्मान कर उन्हें आगे बढ़ाएं.

 

उन्होंने कहा कि परिवार के भरण पोषण का माध्यम बने कौशल विकास. ये ब्लॉक स्तर पर शुरू करके कार्यक्रम को सफल बनाएं ताकि लोकल फार वोकल के बढ़ावा मिले.

 

बतौर अध्यक्ष कुलपति प्रो. निर्मला एस. मौर्य ने कहा कि कौशल विकास में विश्वविद्यालय हर संभव मदद करेगा. उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय काम पर विश्वास रखता है हमारे में अगर चाह है तो हम हर काम को अंजाम दे सकते हैं.

 

विशिष्ट अतिथि पीएमजी कामर्स एज लिमिटेड भदोही के प्रबंध निदेशक डॉ. प्रतीक सिंह ने कहा
कि विश्वविद्यालय के कौशल विकास के माध्यम से आसपास के क्षेत्रों में रोजगार का विकास किया जा रहा है. सबको आत्मनिर्भर बनाने और अपना उद्योग शुरू करने के लिए कई योजनाओं के बारे में विस्तार से बताया और कहा कि पीएमजी ग्रुप इसमें प्रशिक्षणार्थियों का सहयोग करेगी.

 

कौशल विकास मिशन के जिला समन्वयक राजीव कुमार सिंह ने कहा कि कौशल है तो कदर है. सबको हुनर सबको काम सरकार की योजना का लाभ उनको मिल सके. उन्होंने कहा कि शार्टकम ट्रेनिंग के माध्यम से रोजगार के अवसर का प्रयास किया जा रहा है. राष्ट्रीय शिक्षा नीति में कौशल विकास को इसीलिए महत्व दिया गया ‌है.

 

कौशल विकास एवं प्रशिक्षण केंद्र के नोडल अधिकारी डॉ. राजकुमार ने प्रगति आख्या प्रस्तुत की. साथ ही कौशल विकास की गतिविधियों और उद्देश्यों पर विस्तार से प्रकाश डाला. उन्होंने कहा कि इससे महिलाओं को रोजगार के अवसर मिलेगा.

 

वित्त अधिकारी संजय कुमार राय ने स्वागत भाषण, संचालन डॉक्टर जाह्नवी श्रीवास्तव और धन्यवाद ज्ञापन सुनील कुमार ने किया.

 

इस अवसर पर प्रो. अशोक कुमार श्रीवास्तव, प्रो. अजय द्विवेदी, प्रो. रजनीश भास्कर, डॉ. मनोज मिश्र, डॉ. गिरधर मिश्र, डॉ सुनील कुमार, डॉ. दिग्विजय सिंह राठौर, डॉ अवध बिहारी सिंह, डॉ.लक्ष्मी प्रसाद मौर्य, संतोष उपाध्याय, सहायक कुलसचिव श्रीमती बबिता सिंह, दीपक सिंह आदि शिक्षक और विद्यार्थी उपस्थित थे.
(डॉ सुनील कुमार की रिपोर्ट)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.