कृषि कानूनों के विरोध में ट्रेन रोकने का प्रयास

सहतवार, बलिया. कृषि कानून के विरोध में किसानों द्वारा सोमवार को ट्रेनों रोकने के ऐलान को लेकर‌ किसी प्रकार की अप्रिय घटना न घटे इसको लेकर सहतवार पुलिस सुबह से ही सहतवार रेलवे स्टेशन पर जमी रही. और मुख्य किसान नेता लक्ष्मण पाण्डेय, मुन्नू कुंवर आदि पहले से ही अपने घर पर नजर बन्द है.

 

ट्रेन रोकने के लिए पांच सात की संख्या में पहुंचे किसानों को सहतवार पुलिस हिरासत में ले लिया. ट्रेन जाने के बाद पुनः सभी को छोड़ दिया गया. ट्रेन के आवागमन में किसी प्रकार का कोई बाधा नहीं पहुंचा.

सुबह 08- 20 पर जैसे ही छपरा दुर्ग ट्रेन सहतवार रेलवे स्टेशन पर पहुंची  जीऊत पासवान, लक्ष्मीना देवी, परमात्मा वर्मा, अखिलेश प्रसाद, हरेन्दर राजभर , गीता देवी किसान बालेश्वर शर्मा के नेतृत्व में सहतवार रेलवे स्टेशन पर पहुंच गये और झण्डा लहराने लगे. पहले से अपने हमराही सिपाहियों के साथ सहतवार स्टेशन पर मौजूद सहतवार थानाध्यक्ष वीरेन्द्र यादव चौकी इंचार्ज राजीव कुमार सभी को हिरासत में ले लिया. ट्रेन को गुजरने के बाद सभी छोड़ दिया. ट्रेन के आवागमन में किसी प्रकार की बाधा नहीं पहुंची , सभी ट्रेनें समय से अपने गंतव्य स्थानों को रवाना हो गयी.

(बलिया से कृष्णकांत पाठक की रिपोर्ट)

 

 

मनियर. पूर्व नियोजित कार्यक्रम रेल रोको आंदोलन में माले नेताओं सहित दर्जनों लोगों को पुलिस ने सोमवार को खेजुरी मोड़ से गिरफ्तार कर लिया. इन सभी नेताओं व कार्यकर्ताओं को रेल रोको अभियान में जिले पर पहुंच कर रेल रोको आंदोलन करना था. लेकिन पुलिस ने इस आंदोलन के पहले ही गिरफ्तार कर लिया.

किसान नेता बसंत कुमार उर्फ मुन्नी सिंह को पुलिस को रविवार से ही उनके घर पर नजरबंद कर रखा था. लेकिन पुलिस को जैसे ही सूचना मिली कि किसान नेता व माले के राज्य कमेटी के सदस्य राम चौधरी, लाल साहब, वशिष्ठ राजभर व भागवत रेल रोको आंदोलन में शामिल होने की योजना बना रहे है. तो पुलिस ने सभी नेताओं को खेजुरी मोड़ से गिरफ्तार कर लिया. इस मौके पर माले नेता सहित मुन्नी सिंह, राजू राजभर, राधेश्याम चौहान, लीलावती देवी, रेखा पासवान, जनार्दन सिंह, श्री भगवान, राजकिशोर सहित दर्जनों लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया.

(मनियर से संवाददाता वीरेंद्र सिंह की रिपोर्ट)

रेवती. किसान संगठनों द्वारा आयोजित रेल रोको आंदोलन के मद्देनजर पुलिस ने किसान तथा सीपीआई एवं मजदूर नेताओं को एक बार फिर हाउस अरेस्ट कर लिया. कृषि कानून का विरोध कर रहे स्थानीय किसान नेताओं को पुलिस ने एक बार पुनः लगातार तीसरे दिन यानि रविवार की देर शाम को हाउस अरेस्ट कर लिया.

 

किसान महासभा ने शुक्रवार को सरकार का पुतला दहन करने का ऐलान किया था. इसके मद्देनजर पुलिस ने शुक्रवार की सुबह हाउस अरेस्ट कर लिया. हालांकि बावजूद इसके नेताओं के हाउस अरेस्ट किये जाने के बाद भी किसान सभा तथा किसानों को समर्थन दे रहे संगठनों के कार्यकर्ता टीम बी के रूप में सहतवार थाना क्षेत्र के सिंगही तथा महाराजपुर में प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री का पुतला दहन कर अपना विरोध जताया. शुक्रवार की शाम पुलिस ने पाबन्दी हटा लिया लिया लेकिन शनिवार की सुबह पुनः पुलिस ने उक्त नेताओं पर घर से निकलने की पाबन्दी लगाते हुए पहरा लगा दिया।शनिवार की शाम एकबार फिर किसान नेता लक्ष्मण पाण्डेय,सीपीआई के ओम प्रकाश उर्फ मुन्नू कुंवर,सन्तोष सिंह,रामराज वर्मा,रामनिधि प्रजापति,रमाशंकर वर्मा आदि पर लगी पाबन्दी को हटा लिया था. किसान सभा के रेल रोकने की घोषणा के बाद रविवार की शाम उक्त नेताओं पर पुलिस ने 24 घंटे के लिए घर से बाहर निकलने पर पाबन्दी लगा दिया. लक्ष्मण पाण्डेय ने कहा कि सरकार द्वारा लगाई जा रही बन्दिशें हम किसानों का रास्ता नहीं रोक सकती. मुन्नू कुंवर ने कहा कि सरकार का किसानों पर किये जा रहे हर जुल्म के साथ किसान फौलाद होते जा रहे हैं. उधर रेल व्यवस्था को सुचारु संचालित करने के उद्देश्य से रेलवे स्टेशन रेवती पर थाना प्रभारी रामायण सिंह तथा एसआई अजय यादव मयफोर्स जहां तैनात रहे. वहीं आरपीएफ के इंस्पेक्टर शत्रुघ्न द्विवेदी तथा जीआरपी के इन्स्पेक्टर सत्यनारायण सिंह फोर्स के साथ रेल स्टेशन पर रेल गमनागमन को निर्बाध रूप से चलने देने के प्रति सतर्क रहे.

(रेवती से संवाददाता पुष्पेन्द्र तिवारी’सिंधू’ की रिपोर्ट)