बैरिया ब्लॉक में कर्मचारियों की लापरवाही पर डीएम अदिति सिंह ने जताई नाराजगी

निरीक्षण के दौरान कुछ सर्विस बुक व जीपीएफ पासबुक के अपडेट की स्थिति देखी. कहा कि समस्त अभिलेख व कर्मचारियों की वार्षिक प्रविष्टि हमेशा अपडेट रखी जाए. निःशुल्क बोरिंग से सम्बंधित लक्ष्य व प्रगति के बारे में लघु सिंचाई से सम्बंधित पटल सहायक से जानकारी ली.


बैरिया, बलिया. जिलाधिकारी अदिति सिंह ने गुरुवार को बैरिया ब्लॉक कार्यालय का निरीक्षण किया. उन्होंने वरिष्ठ लिपिक से महिलाओं की शिकायत रजिस्टर मांगी लेकिन रजिस्टर बना ही नहीं था तो वह दिखाते कैसे? इस मामले पर नाराजगी जाहिर करते हुए डीएम ने खण्डविकास अधिकारी राम आशीष से महिलाओं के लिए अलग से रजिस्टर बनाने का निर्देश दिया.

 

 

उन्होंने कार्यालय के एडीओ पंचायत अवधेश कुमार पांडेय से सामुदायिक शौचालय व पंचायत भवनों के निर्माण की प्रगति के बारे में जानकारी ली. कहा, जो पूरे होने लायक हों उसे मार्च में युद्धस्तर पर कार्य कराकर पूरा करा दें. गांवों में सफाईकर्मियों के कार्य से सम्बंधित पूछताछ की.

 

निरीक्षण के दौरान कुछ सर्विस बुक व जीपीएफ पासबुक के अपडेट की स्थिति देखी. कहा कि समस्त अभिलेख व कर्मचारियों की वार्षिक प्रविष्टि हमेशा अपडेट रखी जाए. निःशुल्क बोरिंग से सम्बंधित लक्ष्य व प्रगति के बारे में लघु सिंचाई से सम्बंधित पटल सहायक से जानकारी ली. अन्य कमरों में पर्याप्त प्रकाश नहीं होने पर बीडीओ को निर्देश दिया कि अपने कमरे की तरह कर्मचारियों के बैठने वाले कमरों में सीलन की समस्या व अन्य दुर्व्यवस्थाओं को ठीक करा दें.

 

 

जिलाधिकारी ने मनरेगा एपीओ संजय कृष्ण भास्कर से मनरेगा योजना, तालाबों के जीर्णोद्धार से सम्बंधित पूछताछ की. कहा कि तालाब का जीर्णोद्धार गांव का गंदा पानी गिरने के लिए नहीं, बल्कि गांव की सुंदरता बढ़ाने के लिए हो. लेखाकार से ऑडिट आपत्तियों के सम्बंध में जानकारी ली. लम्बित आपत्तियों को तत्काल निस्तारण कर रिपोर्ट भेजने को कहा. आवास लाभार्थियों को भेजे जाने वाली किश्त के बारे में भी जानकारी ली.

 

ब्लॉक में मौजूद करमानपुर व मधुबनी की स्वयं सहायता समूह की महिलाओं से बातचीत कर आजीविका मिशन से जुड़ी जानकारी ली. सामुदायिक शौचालय की स्थिति का भी जानकारी लिया. ब्लॉक परिसर में जर्जर भवनों को देख बीडीओ से पूछताछ की. कहा, जो भवन मरम्मत कर रहने योग्य बनाए जा सकते हैं, उनकी मरम्मत करा दें. जो एकदम जर्जर हो गए हैं उनको निष्प्रयोज्य घोषित कर जरूरी कार्यवाही कराएं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.