‘डूहां मठ नहीं होता तो यह इलाका घाघरा की कोख में होता’

(डूंहा के श्री बनखंडी नाथ मठ से संतोष शर्मा)

SANTOSH SHARMAसिकन्दरपुर में तहसील दिवस में भाग लेने आए जिलाधिकारी राकेश कुमार अचानक डूंहा स्थित श्री बनखंडी नाथ मठ पहुंचे. उन्होंने वहां बाढ़ की स्थिति का जायजा लेने के साथ मठ की सुरक्षा  के लिए उसके उत्तरी दीवाल की तरफ से कराए गए पिचिंग के कार्य का निरीक्षण किया. साथ ही ऐतिहासिक मठ की कटान से सुरक्षा के लिए पर्याप्त व्यवस्था करने की बाढ़ विभाग के प्रभारी अधिशासी अभियंता कुमार गौरव को  निर्देश दिया. पिचिंग के कार्य पर असंतुष्टि व्यक्त करते हुए उसे उन्होंने अपर्याप्त बताया.

इसे भी पढ़ें – दीयारों के बाद कई गांवों को डराने लगी है घाघरा

DM_DUHA

इसे भी पढ़ें – घाघरा के छाड़न में पलटी नाव, सवा दर्जन की जान सांसत में

DM_DUHA2

इसे भी पढ़ें – गंगा थिराई, मगर घाघरा अब भी ले रही अंगड़ाई

DM_DUHA3

इसे भी पढ़ें – जलस्तर में वृद्धि के साथ घाघरा पूरे फॉर्म में, गंगा-टोंस से भी संकट गहराया

जिलाधिकारी ने स्वीकार किया, पिचिंग के नाम पर जितना भी काम हुआ संतोष जनक नहीं

डीएम ने कहा कि यह मठ स्पर की तरह काम करता है. यदि यह मठ नहीं होता तो आसपास के इलाकों का अस्तित्व नदी की कटान से समाप्त हो गया होता. इस दौरान मठ के साधु-संतों से वहां की समस्याओं के बारे में जानकारी भी प्राप्त किया. साथ ही पिचिंग कार्य के बारे में उनसे पूछा. जिलाधिकारी को साधु-संतों ने भी बताया कि जो भी काम हुआ है, वह संतोष जनक नहीं है. जिलाधिकारी के साथ उप जिलाधिकारी अनिल कुमार चतुर्वेदी, तहसीलदार हीरालाल आदि भी मौके पर मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें – घाघरा ने कर रखा है नाक में दम

 

बलिया LIVE की लेटेस्ट पोस्ट से अपडेट रहने के लिए #बलियाLIVE के फेसबुक पेज को लाइक करें.

बलिया LIVE के ट्विटर के जरिये लेटेस्ट अपडेट के लिए @ballialive_ को फॉलो करें.

बलिया LIVE के वीडियो देखने के लिए बलिया LIVE Official चैनल यूट्यूब पर विजिट करें.

अगर आपके दोस्त, रिश्तेदार या परिचित बलिया से बाहर या किसी दूसरे मुल्क में रहते हैं तो उनसे भी शेयर करें.

अपने सुझाव, सलाह या कोई और जानकारी/फीडबैक देने के लिए हमारा CONTACT पेज विजिट करें