ददरी मेला क्षेत्र का सांसद व डीएम ने लिया जायजा

ददरी मेला क्षेत्र का सांसद व डीएम ने लिया जायजा

नगरपालिका द्वारा अब तक कोई योजना नहीं बनाने पर जताई नाराजगी

नपा, लोनिवि, जल निगम समेत अन्य विभागों को सौंपी गयी जिम्मेदारी

बलिया। जिलाधिकारी भवानी सिंह खंगारौत व सांसद भरत सिंह ने ददरी मेला क्षेत्र का स्थलीय निरीक्षण किया. नंदी ग्राम, चेतक प्रतियोगिता स्थल, कार्तिक पूर्णिमा स्नाान को जाने वाले रास्ते व स्नान घाटों का जायजा लिया. इस दौरान नगरपालिका, जल निगम, लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को उनके कार्याें से सम्बन्धित जिम्मेदारी सौंपी गयी. हालांकि अभी तक मेले की कोई खास योजना तक नहीं बना पाने पर सांसद व डीएम ने कड़ी नाराजगी जताई. ईओ व चेयरमैन से कहा कि पहले आपस में बैठक कर एक ले-आउट तैयार कर लें, फिर दोबारा समीक्षा होगी. सांसद ने कहा कि ददरी मेला यहां की ऐतिहासिक विरासत है. इसकी गरिमा के अनुरूप भव्यता प्रदान करना सबकी जिम्मेदारी है. वहीं डीएम ने कहा कि जो लोग मेले में आएंगे यहां की क्षवि साथ लेकर जाएंगे. ऐसी तैयारी को कि हर कोई इसकी सराहना करे. निर्देश दिया कि हैंडपंप के लिए जगह चिन्हित कर उसकी जल निगम को दें, ताकि समय से हैंडपंप लग जाए.
अंत में सांसद व डीएम ने यह भी कहा कि मेले की तैयारियों के सम्बन्ध में स्थानीय जनप्रतिनिधियों की राय को भी साथ लेकर चलें. मेले के सम्बन्ध में जो भी सकारात्मक राय रखे, उस पर गंभीरता से विचार होना चाहिए. इस मौके पर एडीएम मनोज सिंघल, चेयरमैन अजय कुमार, ईओ दिनेश विश्वकर्मा सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारी मौजूद थे.

मेले में आर्यन ग्रुप को कार्य नहींः सांसद
मेला क्षेत्र का निरीक्षण के दौरान साफ सफाई की बात आने पर चेयरमैन ने बताया कि आर्यन ग्रुप मेला की भी सफाई का कार्य देखेगी. इस पर सांसद भरत सिंह ने साफ कहा कि आर्यन ग्रुप का कोई हस्तक्षेप मेला में नहीं होना चाहिए. उसको कोई कार्य नहीं मिलना चाहिए. शहर में सफाई को लेकर इस कम्पनी की कई सारी शिकायतें हैं. वार्ड के सभासद भी उसके कार्य से संतुष्ट नहीं है. जिलाधिकारी से कहा कि मेला में आर्यन ग्रुप को कोई कार्य नहीं दिया जाना चाहिए.

स्वच्छता का रहे पूरा ख्याल

जिलाधिकारी ने कहा कि मेले में स्वच्छता का पूरा ख्याल रखना है. मेले में आने वाली भीड़ के लिए पर्याप्त मात्रा में शौचालय बनवाया जाए. नंदी ग्राम में पर्याप्त अस्थाई शौचालय बने, ताकि किसी को खुले में शौच को जाने की नौबत नहीं आए. इसके लिए पहले से व्यापारियों को हिदायत भी दे दी जाए. जगह-जगह कूड़ादान रखा रहे. समय-समय पर लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरूक भी किया जाता रहे.

आय होती है तो उस हिसाब से सुविधाएं भी दी जाए

सांसद भरत सिंह व डीएम भवानी सिंह खंगारौत ने निरीक्षण के दौरान नंदी ग्राम मेले की आय के बावत पूछताछ की. कहा कि जब आय ठीक-ठाक हो जाती है तो उस हिसाब से पशु व्यापारियों को सुविधाएं भी उपलब्ध कराई जाए. पशु व्यापारियों को किसी प्रकार की दिक्कत न हो, इस पर चर्चा हुई.

सुगम रास्ते व सुरक्षा पर विशेष जोर

सांसद व डीएम ने कार्तिक पूर्णिमा स्नान को जाने वाले रास्ते व स्नान घाटों का जायजा लिया. इस दौरान नदी के किनारे से जाने वाले रास्तों पर कुछ जरूरी जगहों पर मजबूती से बैरिकेटिंग करने का निर्देश दिया, ताकि स्नान घाट के अलावा कहीं कोई स्नान करने पावे. प्रतिबंधित घाट पर किसी को नहीं जाने देना है. रास्ते पूरी तरह सुगम हो. लोगों की सुरक्षा का विशेष ध्यान रहे. हर जरूरी जगहों पर पुलिसकर्मी मौजूद रहें.
इस बात पर विशेष जोर दिया कि मेला के अंदर व बाहर रास्ते सुगम हो. मेले में जगह-जगह बनने वाले चैक की सुंदरता पर भी ध्यान रहे. कहा, यह ऐतिहासिक मेला है और इसकी भव्यता के हिसाब से तैयारी होनी चाहिए.

किसानों ने मुआवजा बढ़ाने को दिया पत्रक

मेलास्थल का जायजा लेने पहुंचे सांसद भरत सिंह व डीएम भवानी सिंह खंगारौत से मेला क्षेत्र के स्थानीय किसान मिले. किसानों का कहना था कि उनकी अधिग्रहित जमीन का उचित मुआवजा नहीं मिलता है. अभी तक 12 सौ रूपए प्रति एकड़ के हिसाब से मुआवजा मिलता है, जो मेला बाद साफ सफाई के लिए भी पर्याप्त नहीं है. इस मुआवजे को 15 हजार रूपए प्रति एकड़ देने की मांग की और लिखित पत्र भी दिया. सांसद ने भी किसानों की मांग को जायज ठहराते हुए इस पर विचार करने की बात कही. जिलाधिकारी ने कहा कि इस पर विचार विमर्श कर शीघ्र अवगत कराया जाएगा. किसानों ने यह भी कहा कि उनकी जमीन पर रोलर न चलाया जाए. इससे खेती पर दुष्प्रभाव पड़ता है.

आपकी बात

Comments | Feedback

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!