News Desk December 19, 2019

सिकन्दरपुर (बलिया) से संतोष शर्मा

खरीद दरौली के बीच घाघरा नदी में आलू लदा पिकअप समाया. पिकअप का पता नहीं. लोगों ने ड्राइवर औऱ व्यापारी को सुरक्षित निकाला.
विस्तृत खबर थोड़ी देर में, पिकअप की तलाश जारी.

दरौली घाघरा नदी पीपा पुल का निर्माण कार्य लगभग पूरा कर लिया गया है. साथ ही पुल पर आवागमन भी शुरू हो गया है. पीपा का पुल चालू हो जाने से बिहार व उत्तर प्रदेश के सरयू तट पर बसे हजारों गांवों के लाखों लोगों द्वारा आपसी रिश्तेदारी के अलावा विभिन्न व्यवसायिक जरूरतों को पूरा करने में सहयोग मिलता है. पीपा पुल के रास्ते लोगों को यूपी से बिहार जाने में काफी सहुलियत होती है.

 

सीवान के दक्षिणी हिस्से में स्थित दरौली, गुठनी, आंदर, आसांव, रघुनाथपुर व सिसवन प्रखंड के हजारों गांव घाघरा तट पर बसे और यूपी बलिया जनपद के हजारों गांव के लाखों परिवार पक्का पुल नहीं होने से अपनी जरूरतों को पीपा पुल के सहारे पूरा कर पाते हैं. अगर सड़क मार्ग से यात्रा करनी हो तो लगभग 200-250 किलोमीटर की लंबी दूरी यात्रा कर ही अपने गंतव्य पर पहुंचेंगे. इस नदी पर पीपा पुल लग जाने से लगभग 150-200 किलोमीटर की दूरी कम हो जाती है. बतादें कि उत्तर प्रदेश के सिकंदरपुर के पूर्व विधायक मोहम्मद जिआउल हक रिजवी के प्रयास से पहली बार यूपी सरकार के द्वारा पीडब्ल्यूडी विभाग द्वारा वर्ष 2006 में 7 करोड़ 50 लाख की लागत से पीपा पूल लगाया गया था. उसी समय से यूपी सरकार के पीडब्ल्यूडी विभाग द्वारा घाघरा नदी पर बिहार के दरौली व यूपी के खरीद गांव के बीच प्रतिवर्ष पीपा पुल लगाया जाता है.

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.