भोजपुरी लोकधुन लहरों के राजहंस भिखारी ठाकुर

भोजपुरी लोकधुन लहरों के राजहंस भिखारी ठाकुर

भोजपुरी के शेक्सपियर भिखारी ठाकुर की जयंती पर विशेष

जयप्रकाशनगर (बलिया) से लवकुश सिंह

असीमीत जमीनी जानकारी, सपाट शैली व अलौकिक इल्म ने तब के ‘लोकगायक’ भिखारी ठाकुर को अंतर्राष्ट्रीय उंचाई दी. अति सामान्य इस व्यक्ति की लोक समझ, शोध प्रबंधों का साधन बन गई. भोजपुरी के प्रतीक भिखारी ठाकुर अपनी प्रासंगिक रचनाधर्मिता के कारण भारतीय लोक साहित्य में ही नहीं, सात समुंदर पार मारीशस, फीजी, सूरीनाम जैसे देशों में भी अत्यंत लोकप्रिय हैं. संचार क्रांति की लहरों पर तिरता भोजपूरी लोकधुन लहरों का यह राजहंस, आज देश काल पर भाषा की वंदिशों को लांघता विश्व लोकसंस्कृति की धरोहर बन बैठा है. आज उसी लोक कवि भिखारी ठाकुर की जयंती है. इस दिवस पर हम उनके जीवन की एक संक्षिप्त पड़ताल करें तो नाटय प्रशिक्षण संस्था एनएसडी में उनकी कृति विदेशिया व लोक नाट्य शैली के रूप में पढ़ाए जाते हैं.

लोक कलाकार – भिखारी ठाकुर
जन्‍म-18 दिसंबर;1887
जन्म स्थान -कुतुबपुर दियारा, छपरा (बिहार)
मृत्यु –1971
पिता-दलसिंगार ठाकुर
माता-मनतुरना देवी
गुरु-भगवान साह
प्रसिद्ध कृतियां-विदेशिया, (फिल्म भी बनी) गबरघिचोर, बेटी बेचवा, पिया निसही, गंगा नहान, राधेश्याम, बहार, सीता राम बहार, नाई बहार, भाई विरोध, रामनाम कीर्तन माला, बूढशाला के बखान आदि.

गांधी के समकालीन भिखारी ठाकुर अपने नाटकों में वहीं संदेश दे रहे थे, जो बापू अपने राजधर्म में दे रहे थे. बापू के समाजोद्धार विषयक विचार ही लोक कलाकार भिखारी ठाकुर के कालजयी नाटक, नौटंकियों में बेटी बेचवा, भाई विरोध, विदेशिया और गबरघिचोर के मूल कथानक हैं. मलाल यह कि भोजपुरी के शेक्सपियर कहे जाने वाले भिखारी ठाकुर के वंशज आज पूरी तरह उपेक्षा का शिकार हैं. उनके पौत्र राजेंद्र राय, बिहार के छपरा जिले के कुतुबपुर दियारा में गंगा-सरयू से घिरे स्थान पर रहते हैं. वहीं प्रपौत्र नियाजित शिक्षक हैं.

इसे भी पढ़ें – चीथड़ों में गुजर बसर कर रहे हैं  भिखारी ठाकुर के परिजन

सिताबदियारा से था गहरा नाता

सिताबदियारा निवासी सुरेंद्र सिंह बताते हैं कि भिखारी ठाकुर का सिताबदियारा से गहरा नाता था. वह जब तक जीवित थे, तब तक सिताबदियारा के गरीबा टोला में दशहरे के दिन उनका कार्यक्रम अवश्य होता था. उनके जाने के बाद भी कुछ वर्षों तक उनकी मंडली यहां प्रतिवर्ष अपना कार्यक्रम देने आती थी. आज 18 दिसंबर को उनकी जयंती है, किंतु दखद यह कि भोजपुरी क्षेत्रों में भी उस लोक कवि को लोग भूलते जा रहे हैं.

आपकी बात

Comments | Feedback

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!