पल्स पोलियो दिवस पर निकली जागरूकता रैली

This item is sponsored by Maa Gayatri Enterprises, Bairia : 99350 81969, 9918514777

यहां विज्ञापन देने के लिए फॉर्म भर कर SUBMIT करें. हम आप से संपर्क कर लेंगे.

पोलियो वायरस फिर से भारत में प्रवेश न करें: डा. हरिनन्दन

बलिया। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन द्वारा चलाये जा रहे पोलियो उन्मूलन कार्यक्रम के तहत जनपद में सघन पल्स पोलियो अभियान 07 से 15 अप्रैल तक चलाया जायेगा. इसके प्रचार-प्रसार के लिए शनिवार को शहर में जन जागरूकता रैली निकली गयी. प्रभारी मुख्य चिकित्साधिकारी डा. हरिनन्दन प्रसाद ने हरी झंडी दिखाकर रैली को रवाना किया. यह रैली तिलक प्राथमिक विद्यालय नगर क्षेत्र से शुरू होकर स्टेशन रोड होते हुए बापू भवन टाउन हाल तक निकाली गयी. डा. हरिनन्दन प्रसाद ने कहा कि जनजागरूकता से ही पोलियो का जड़ से उन्मूलन सम्भव है.
जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. विजय यादव ने बताया कि पिछले चरण की तरह इस चरण के लिए भी जन्म से पाँच वर्ष तक के 4.76 लाख सम्भावित बच्चों को पोलियो रोधी दवा पिलाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है. उन्होने बताया कि इस चरण के लिए जिले भर में 1601 बूथ बनाए गए हैं. वहीं 7 अप्रैल को बूथ स्तर पर पोलियो अभियान चलाया जाएगा. अभियान में 834 टीमें और 320 सूपर्वाइजर तैनात किया गए हैं. जो 8 अप्रैल से 15 अप्रैल तक घर-घर जाकर बच्चों को पोलियो कि दवा पिलाने का काम करेंगे.
उन्होने बताया कि वर्ष 2011 में पोलियो का अन्तिम प्रकरण प्राप्त हुआ था. जिसके बाद पोलियो वायरस फिर से भारत में प्रवेश न करे, इसके लिए भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय पल्स पोलियो अभियान का आयोजन हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी 10 मार्च को किया गया.
खास बात यह है कि भारत में पोलियो का अंतिम मामला 13 जनवरी 2011 को गुजरात और पश्चिम बंगाल में रिपोर्ट हुआ था, जबकि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भारत को 27 मार्च 2014 को पोलियो मुक्त देश घोषित कर दिया था. हालांकि पड़ोसी देश जैसे पाकिस्तान, अफगानिस्तान में फैले पोलियो के वायरस आने का खतरा बना हुआ है. जिस वजह से देश में नियमित टीकाकरण कार्यक्रम के अंतर्गत पल्स पोलियो अभियान के दौरान पोलियो की दवा पिलाई जा रही है.