दिव्यांग पुनर्वास केंद्र की उपयोगिता बढ़ाने पर विशेष जोर

This item is sponsored by Maa Gayatri Enterprises, Bairia : 99350 81969, 9918514777

यहां विज्ञापन देने के लिए फॉर्म भर कर SUBMIT करें. हम आप से संपर्क कर लेंगे.

बलिया: दिव्यांग पुनर्वास केंद्र की उपयोगिता बढ़ाने व दिव्यांग स्कूल पर बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए जिलाधिकारी सुरेंद्र विक्रम ने पहल की है. उन्होंने मंगलवार को जिला अस्पताल में स्थित दिव्यांगजन पुनर्वास केंद्र व विशुनीपुर स्थित दिव्यांग स्कूल का निरीक्षण किया.
अस्पताल में दिव्यांग पुनर्वास केंद्र पर और क्या बेहतर हो सकता है इसके लिए सुझाव लिए. इसकी उपयोगिता बढ़ाने पर विशेष जोर दिया. कहा कि दिव्यांग बच्चों के नही रहने पर अगर यहां खाली रहता है तो फीजियोथेरेपी आदि की व्यवस्था पर भी विचार किया जाए. इसके लिए प्रस्ताव भारत सरकार को भी भेजा जाएगा.
दिव्यांग स्कूल पर पहुंचे जिलाधिकारी ने बच्चों से ब्रेल लिपि में लिखवाकर तथा मूकबधिर बच्चों की क्लास चलवाकर गुणवत्ता को परखा. इन बच्चों का विशेष ख्याल रखने का निर्देश बीएसए व दिव्यांग कल्याण अधिकारी को दिया. जिलाधिकारी ने कहा कि दिव्यांग बच्चों को बेहतर शिक्षा देना है. हर दिव्यांग के अंदर कोई न कोई टैलेंट है, उनकी प्रतिभा को प्रोत्साहित करने के लिए कोई कोर कसर बाकी नही रखी जाएगी. बच्चों को उनके हिसाब से सहायक उपकरण उपलब्ध कराने का निर्देश दिव्यांग कल्याण अधिकारी केके राय को दिया. वहीं बेसिक शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिया कि दिव्यांग स्कूल पर समय-समय पर आते रहें. यहां बच्चों को बेहतर भोजन के साथ गुणवत्तापरक शिक्षा दी जाए. इस दौरान बच्चों के गीत, गाने व टैलेंट देख जिलाधिकारी मंत्रमुग्ध हो गये. रसोईघर में विशेष सावधानी बरतने की नसीहत दी. इस अवसर पर बीएसए संतोष राय आदि साथ रहे.