शिक्षामित्रों व प्रेरकों ने काला दिवस के रूप में मनाया शिक्षक दिवस

शिक्षामित्रों व प्रेरकों ने काला दिवस के रूप में मनाया शिक्षक दिवस

बलिया। शिक्षक दिवस के मौके पर जिले के लगभग 500 अनुदेशक काली पट्टी बांधकर जिले पर बेसिक शिक्षा अधिकारी को ज्ञापन दिए. साथ ही जिला बेसिक कार्यालय से मोटरसाइकिल जुलूस निकालकर जिलाधिकारी कार्यालय पर जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिए.

अनुदेशको का कहना था कि उनका विगत 18 माह से केंद्र सरकार के अप्रूवल बोर्ड के द्वारा स्वीकृत मानदेय 17000 रुपए देने में राज्य सरकार आनाकानी कर रही है. जिसके एवज में राज्य के 51वीं वित्त बजट के बैठक 20 दिसंबर 2017 को मानदेय 9800 रुपए पारित किया गया. जो कि विधानसभा सत्र में बेसिक शिक्षा मंत्री अनुपमा जायसवाल जी द्वारा अनुदेशक को 9800 रुपया देने का और अविलम्ब आदेश जारी करने का निर्देश दिया है. जिसको लेकर प्रदेश भर के सभी अनुदेशकों में आक्रोश व्याप्त है. यदि सरकार द्वारा अनुदेशकों का मानदेय 17,000 रुपए जारी नहीं किया जाता है तो आगामी 10 सितंबर 2018 को प्रदेश भर के सभी अनुदेशक लखनऊ विधानसभा का घेराव करेंगे. जिसकी संपूर्ण जिम्मेदारी राज्य सरकार की होगी. इस विरोध प्रदर्शन में राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद और विशिष्ट बीटीसी वेलफेयर एसोसिएशन ने भी अनुदेशको का समर्थन किया. इस मौके पर संयुक्त कर्मचारी संघ के मंत्री वेदप्रकाश पाण्डेय तथा बीटीसी वेलफेयर एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष घनश्याम चौबे, अनुदेशक संघ के अध्यक्ष पंकज यादव, कोषाध्यक्ष अवधेश भारती, उपाध्यक्ष देवेश पांडे, बेलहरी ब्लॉक अध्यक्ष देव कुमार यादव, ज्योति जीवन, शशि भूषण, संजीव तिवारी, नन्दु लाल, विक्रांत ,ज्ञानेंद्र पाठक, अरूण पांडे, दीपक, अभिषेक पाण्डेय ,शशि भूषण यादव, शशिकांत सिंह, शशि भूषण यादव, के साथ जिले के सभी ब्लॉक अध्यक्ष एवं अनुदेशक अनुदेशिकाये मौजूद रहे.

उधर बैरिया में शिक्षक दिवस के पावन मौके पर शिक्षामित्र व शिक्षा प्रेरकों ने काला दिवस के रूप मे इस दिवस को मायूसी से मनाया.
बैरिया तहसील क्षेत्र के समस्त शिक्षा क्षेत्रों के शिक्षामित्र विद्यालय मे उपस्थित होकर काला दिवस के रूप में इस दिवस को मनाया. शिक्षा मित्र रमेश पाण्डेय, अजंनी पाण्डेय, अखिलेश दूबे, अनिल यादव, महावीर यादव ने बताया कि पूरा देश शिक्षक दिवस मना रहा है. हम तो किसी श्रेणी में नही. सरकार की उपेक्षात्मक रवैया से हम परेशान हैं. हमारे कई साथी काल कलवित हो गये तब भी सरकार की निद्रा नही खुल रही हैं.ऐसे में शिक्षक दिवस भी हमारे लिए काला दिवस के ही समान हैं.वही शिक्षा प्रेरक रमेश शर्मा, घनश्याम राम, बबिता पाण्डेय, कालिन्दि पाण्डेय,अजय तिवारी, रामजी वर्मा, गीता सिह आदि ने बताया कि केन्द्र सरकार ने कार्यक्रम बन्द कर दिया हैं. शेष मानदेय भुगतान भी नही हो रहा हैं.प्रेरको ने अविलम्ब कार्यक्रम प्रारम्भ करने व शेष मानदेय भुगतान की मांग की. शिक्षामित्र व प्रेरको ने एक स्वर से कहा कि सरकार जितना हमे तड़पा रही है. समय आने पर एक एक पाई का हिसाब लिया जायेगा. शिक्षक दिवस के दिन शिक्षा मित्र व शिक्षा प्रेरको ने विद्यालयो मे काली पट्टी बांध कर काला दिवस मनाया.

आपकी बात

Comments | Feedback

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!