Assignment Desk September 30, 2019
flood ballia patna sharda sinha sushil modi

बलिया: बलिया में बाढ़ से तो तबाही पहले से ही मची हुई है, लगातार बारिश ने मुश्किलों का अंबार खड़ा कर दिया है. बाढ़ और बारिश से पानी जेल के बैरकों में भी घुस गया है. लिहाजा कैदियों को प्रदेश की दूसरी जेलों में शिफ्ट करना पड़ा है.

बाढ़ का पानी बैरक में घुसने से बलिया जेल के कैदियों को आजमगढ़ और आंबेडकरनगर की जेलों मे भेजा जा रहा है. बलिया के ADM रामाश्रय ने ANI को बताया कि जेल से 500 कैदियों को आजमगढ़ भेजा जा रहा है. इसी तरह कुछ कैदी आंबेडकरनगर जेल में भी शिफ्ट किया जा रहे हैं. जेल में अधिकारी और कैदी घुटने भर पानी में चलते देखे गये.

भारी बारिश और बाढ़ के कारण बलिया से भी बुरी हालत पटना शहर की हो गयी है. लोग अपने घरों में फंसे हुए हैं जिनके पास पीने का पानी और दवाइयों तक का स्टॉक खत्म होता जा रहा है. पटना के राजेंद्र नगर में तो हालत बहुत ही बदतर होती जा रही है.
मशहूर लोक गायिका शारदा सिन्हा भी अपने घर में फंसी हुई थीं और उनके घर में जरूरी दवाइयां भी खत्म होने वाली थीं. स्थिति जब नाजुक होने लगी तो शारदा सिन्हा ने अपने फेसबुक पेज के जरिये रेस्क्यू की अपील करनी पड़ी.

राजेन्द्र नगर में अपने घर में पानी में फसी हुई हूँ।
मदद नही मिल पा रही है NDRF की राफ्ट तक भी पहुँचना असंभव है । पानी महक रहा है ।
काश भारत में एयर लिफ्ट की सुविधा होती ।
कोई रास्ता हो तो बताएं

फेसबुक पर शारदा सिन्हा के अपील करते ही उन्हें जानने वाले सक्रिय हो गये. बिहार के रहने वाले सीनियर पत्रकार अभिरंजन कुमार ने भी अपनी फेसबुक पोस्ट में शारदा सिन्हा और उनके परिवार से फोन पर हुई बातचित का विवरण दिया – और लोकगायिका और उनके परिवार की मुश्किल से चिंतित होकर उनकी अपील को आगे बढ़ाया.
बाद में अभिरंजन कुमार ने एक और पोस्ट में अपडेट दिया कि शारदा सिन्हा को उनके राजेंद्र नगर के घर से सुरक्षित निकाल लिया गया है. हालांकि, उनके बेटे तब तक घर पर ही थे.

पटना में राजेंद्रनगर में बिहार के डिप्टी CM सुशील कुमार मोदी भी शारदा सिन्हा की ही तरह फंसे हुए थे – जिन्हें NDRM की टीम ने सुरक्षित निकाल लिया है.

ये तो बलिया के जेल और शारदा सिन्हा और बिहार के डिप्टी सीएम का हाल है – सोचिये, यूपी और बिहार में आम आदमी किस हाल में जिंदगी को पटरी पर लाने के लिए जूझ रहे हैं.

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.