Ballia News: सरयू नदी के बीच निर्माणाधीन जयप्रभा सेतु के पिलर में तीन दिन से फंसा बंदर

Jayprabha setu Monkey

Please LIKE and FOLLOW बलिया LIVE on FACEBOOK page https://www.facebook.com/ballialivenews

वीरेंद्र नाथ मिश्र,बैरिया,बलिया

बैरिया, बलिया। यूपी तथा बिहार की सीमा पर स्थित माँझी घाट पर निर्माणाधीन जयप्रभा सेतु के पानी के बीचोबीच खड़े पाया नम्बर आठ पर एक लाल बन्दर सरयू की तेज धारा के बीच पिछले तीन दिनों से फंसा पड़ा है। भूख प्यास से ब्याकुल बन्दर को स्थानीय नाविकों द्वारा वहाँ से निकालने का प्रयास भी किया गया लेकिन बन्दर उनकी पकड़ में नही आ सका।

जयप्रभा सेतु होकर आने-जाने वाले राहगीरों ने बताया कि चारो तरफ से पानी में घिरे पिलर पर जा फ़ंसे लाचार बन्दर पर कौवे लगातार हमला कर उसे चोटिल कर रहे हैं। कौवों के हमले से बचने के लिए वह पाया के ऊपर निकले लोहे के राड व जाली के बीच भाग-भाग कर छिपता फिर रहा है। राहगीरों ने बताया कि कौवों के हमलों से परेशान तथा तीन दिनों से भूखा प्यासा बन्दर जयप्रभा सेतु होकर आने जाने वाले प्रत्येक राहगीरों की तरफ आशा भरी नजरों से देख रहा है।

सोमवार को राहगीरों की सूचना पर पहुँचे छपरा वन विभाग से जुड़े कर्मियों ने बन्दर को पानी के बीच से नाव की सहायता से निकालने का प्रयास किया लेकिन खबर लिखे जाने तक बन्दर को वहाँ से निकाला नही जा सका था। कर्मियों ने बताया कि पटना से विभाग की टीम को बुलाया जा रहा है जो बन्दर को बेहोश करके वहाँ से निकालेगी।

Breaking News और बलिया की तमाम खबरों के लिए आप सीधे हमारी वेबसाइट विजिट कर सकते हैं.

X (Twitter): https://twitter.com/ballialive_

Facebook: https://www.facebook.com/ballialivenews

This item is sponsored by Maa Gayatri Enterprises, Bairia : 99350 81969, 9918514777

यहां विज्ञापन देने के लिए फॉर्म भर कर SUBMIT करें. हम आप से संपर्क कर लेंगे.

Instagram: https://www.instagram.com/ballialive/

Website: https://ballialive.in/

अब बलिया की ब्रेकिंग न्यूज और बाकी सभी अपडेट के लिए बलिया लाइव का Whatsapp चैनल FOLLOW/JOIN करें – नीचे दिये गये लिंक को आप टैप/क्लिक कर सकते हैं.

https://whatsapp.com/channel/0029VaADFuSGZNCt0RJ9VN2v

आप QR कोड स्कैन करके भी बलिया लाइव का Whatsapp चैनल FOLLOW/JOIN कर सकते हैं.

ballia live whatsapp channel

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.