राजकीय महिला महाविद्यालय में एक भी महिला प्राध्यापक नहीं

शहीद मंगल पांडेय जयंती माह

दुबहर, बलिया. स्वतंत्रता संग्राम के महानायक शहीद मंगल पांडे के पैतृक गांव नगवा में संचालित शहीद मंगल पांडेय राजकीय महिला महाविद्यालय में एक भी महिला प्राध्यापक न होने के कारण छात्राओं को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है.

ज्ञात हो कि शहीद मंगल पांडे राजकीय महिला महाविद्यालय में लगभग चार सौ पचास छात्राओं का नामांकन है जिसमें आर्ट, साइंस और कॉमर्स मिलाकर कुल ग्यारह असिस्टेंट प्रोफेसरों की नियुक्ति है जिसमें एक भी महिला प्रोफ़ेसर नहीं है. ऐसे में छात्राओं के महाविद्यालय में किसी महिला प्रोफेसर की नियुक्ति किए जाने की नितांत आवश्यकता है.  साथ ही बरसों से इस महिला महाविद्यालय में पूर्णकालिक प्राचार्य की नियुक्ति न होने के कारण किसी प्रोफेसर से ही प्राचार्य का कार्य भी लिया जा रहा है जिसके चलते एक प्रोफ़ेसर तो प्रशासनिक कार्यों में ही व्यस्त रहते हैं जिससे छात्राओं के अध्ययन अध्यापन में बाधा उत्पन्न होती है.

क्षेत्रीय अभिभावकों ने शहीद मंगल पांडे के नाम पर संचालित राजकीय महिला महाविद्यालय में महिला प्रोफेसर के साथ-साथ पूर्णकालिक प्राचार्य की नियुक्ति करने की मांग की है ताकि महाविद्यालय अपनी पूर्ण क्षमता से कार्य कर सके और इस में अध्ययनरत छात्राओं को भरपूर लाभ मिल सके.
बलिया से कृष्णकांत पाठक की रिपोर्ट