गंगा देश की सांस्कृतिक विरासत – रवि राय

दुबहर, बलिया. नेहरू युवा केंद्र बलिया के तत्वावधान में नमामि गंगे कार्यक्रम में युवाओं की सहभागिता कार्यक्रम के अंतर्गत ग्राम स्तरीय दो दिवसीय गंगा दूतों के प्रशिक्षण का समापन दुबहर विकासखंड के नगवा स्थित शहीद मंगल पांडेय इंटर के प्रशिक्षण सभागार में मंगलवार को जिला युवा अधिकारी रविन्द्र मोहन की अध्यक्षता में सम्पन्न हुआ.

 

प्रशिक्षण का शुभारंभ मां सरस्वती के चित्र पर पुष्प अर्पित कर कॉलेज के प्रधानाचार्य रवि राय व जिला युवा अधिकारी रविन्द्र मोहन ने संयुक्त रूप से किया.

उपस्थित गंगा दूतों को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि रवि राय ने कहा कि यदि हम गंगा नदी को स्वच्छ करने में सफल हो जाते हैं, तब हमारे भारत की 40 प्रतिशत आबादी के लिए आर्थिक रूप से बहुत मददगार साबित होगा.

 

विशिष्ट अतिथि विमल पाठक ने कहा कि गंगा को वास्तविक रूप से स्वच्छ करने के लिए हमें लोगों को गंगा के सामाजिक, आर्थिक तथा कृषि क्षेत्र में महत्व के बारे में धरातल पर जागरूक करना होगा.

 

कहा कि गंगा भारत की मुख्य प्राणधारा है. जिला प्रशिक्षक नितेश पाठक व हिमांशु कुमार ने उपस्थित युवाओं को गंगा नदी के प्रदूषित होने से फैलने वाली बीमारियों के बारे में विस्तार से बताया। भाजपा के वरिष्ठ नेता कमलेश कुमार पांडेय ने उपस्थित युवकों एवं युवतियों से नदी में कूड़ा कचरा नहीं डालने, मृत पशुओं के शव को नदी में प्रवाहित नहीं करने, पूजा सामग्रियों आदि को गंगा नदी में प्रवाहित नहीं करने की अपील की.

 

इस मौके पर प्रमुख रूप से छोटेलाल पाठक, प्रमोद पांडे, ओंकार सिंह ,अरविंद पांडे, कृष्णा यादव ,सत्येंद्र कुमार ,रोहित खरवार, अमरजीत, अभिषेक चौबे, वैष्णवी पांडे ,राखी पासवान, सूरज यादव ,प्रीत कुमार चौबे ,कल्पना, प्राची पांडे आदि लोग मौजूद रहे संचालन राष्ट्रीय युवा स्वयंसेवक वर्धन पाठक ने किया.

 

टाउन पीजी कॉलेज के प्राध्यापकों को मिली बड़ी सौगात चहुंओर खुशी

बलिया. श्री मुरली मनोहर टाउन पीजी कॉलेज, बलिया के लिए रविवार का दिन खास रहा। इस दिन महाविद्यालय के कई प्राध्यापकों की बहुप्रतिक्षित मांग प्रोफेसर पदनाम एवं वेतनमान को इसके लिये बनायीं गयी छानबीन सह मूल्यांकन समिति द्वारा संस्तुति प्रदान की गई. समिति में निदेशक, उच्च शिक्षा के प्रतिनिधि, कुलपति द्वारा नामित दो विषय विशेषज्ञ, कॉलेज के प्रबंधक व प्राचार्य शामिल थे.

 

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा पहली बार 1 नवम्बर 2021 के शासनादेश के तहत महाविद्यालयों में प्रोफेसर पदनाम प्रदान किया गया है. इस शासनादेश की वजह से शिक्षक प्रोफेसर बनकर बहुत प्रसन्न दिखे.

महाविद्यालय शिक्षक संघ के नेता डॉक्टर अखिलेश राय ने बताया कि समिति द्वारा हिंदी विभाग से डॉ. अमलदार ‘ नीहार’, डॉ. अखिलेश कुमार राय, डॉ. जैनेन्द्र कुमार पाण्डेय; समाजशास्त्र से डॉ. आरपी सिंह, डॉ. रामनरेश यादव; बीएड विभाग से डॉ. ओंकार सिंह, डॉ. रमाकांत सिंह, डॉ. संजय सरोज; कृषि संकाय से डॉ. ओपी सिंह, डॉ. धर्मेंद्र सिंह, डॉ. बृजेश सिंह, डॉ. अशोक सिंह; गणित विभाग से डॉ. भागवत प्रसाद को प्रोफेसर पद हेतु संस्तुत किया गया.
इनके अलावा डॉ. विजयानंद पाठक, डॉ. अनिल सिंह, डॉ. सुधा सिंह आदि प्राध्यापकों को भी एसोसिएट प्रोफेसर और असिस्टेंट प्रोफेसर सीनियर स्केल पर प्रोन्नति हेतु संस्तुति प्रदान की गयी है.

(बलिया से केके पाठक की रिपोर्ट)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.