सोनबरसा में फिर बंद हो गई गेहूं की खरीद, निराश लौटे गेहूं किसान

बैरिया. न्यू मंडी समिति रानीगंज/सोनबरसा में खुले राजकीय गेहूं क्रय केंद्र पर आज शनिवार को भी नहीं हुई किसानों के गेहूं की खरीद। दर्जनों किसान क्रय केंद्र पर आकर वापस निराश लौटे। किसानों की झल्लाहट व निराशा बढ़ती जा रही है क्योंकि सबको 15 जून तक ही गेहूं खरीद की तिथि है जो जल्दी-जल्दी करीब आती दिख रही है।

दो दिन पहले यानी गुरुवार को विधायक सुरेंद्र सिंह किसानों के गेहूं की खरीद की मांग को लेकर सोनबरसा क्रय केंद्र पर दिन भर धरना पर बैठे रहे। उसी दिन देर शाम को जब किसान से गेहूं की खरीद शुरू हुई तब विधायक वहां से हटे।

उस दिन मौके पर डिप्टी आरएमओ अविनाश कुमार ने आश्वासन दिया था कि अगले दिन से यहां पर 3 वेटिंग मशीन से काम करते हुए ई-पास मशीन के माध्यम से गेहूं की खरीद की जाएगी लेकिन अगले दिन भी एक छटांक गेहूं की भी खरीद नहीं हुई। विधायक का धरना भी कम नहीं आया।

शुक्रवार की शाम जब एडीएम क्रय केंद्र पर निरीक्षण के लिए पहुंचे तो एसडीएम ने तहसीलदार और डिप्टी आरएमओ भी पहुंच गए। एडीएम ने बैकलॉग की फीडिंग कर तुरंत खरीद चालू करने का निर्देश दिए। किसानों को उम्मीद बढ़ी कि चलिए शनिवार से खरीद शुरू हो जाएगी लेकिन ऐसा नहीं हुआ। आज भी क्रय केंद्र पर पहुंचे दर्जनों किसान दोपहर बाद तक इंतजार कर प्रदेश सरकार व अधिकारियों को लानत- मलामत देते अपने अपने घर वापस लौटे।

विभागीय सूत्रों की माने तो गेहूं क्रय केंद्र सोनबरसा में 4,000 कुंतल गेहूं की खरीदारी की जा चुकी है लेकिन एक का भी ऑनलाइन फीडिंग नहीं हुआ है। उधर जिलाधिकारी का निर्देश है की प्रतिदिन 350 कुंतल की खरीद की फीडिंग ई-पॉस मशीन के माध्यम से बैकलॉग की पूरी कर ली जाए उसके बाद ही आगे की खरीद की जाएगी।

यहां के हालात यह है कि बिना फीडिंग के ही गेहूं खरीद लिया गया। जब तक फीडिंग नहीं होगी तब तक किसानों को गेहूं की कीमत भी नहीं मिलेगी। पूरे प्रदेश में एकमात्र सोनबरसा है ऐसा क्रय केंद्र है जहां के लिए 3 वेटिंग मशीन की डिमांड की गई है ताकि एक पर बैकलॉग की फीडिंग हो और बाकी दो से आगे की खरीद की जाए। विभागीय सूत्रों ने यह भी बताया है कि क्रय केंद्र खुलने के बाद रविवार और छुट्टियों के दिन भी गेहूं की खरीद की गई है जबकि छुट्टी के दिनों पर पोर्टल बंद रहा और फीडिंग नहीं हो सकी।

वाजिदपुर के किसान सुजान सिंह, इब्राहिमाबाद के किसान धनंजय सिंह, लक्ष्मण छपरा के किसान रणधीर सिंह नन्हे, भगवानपुर के राजकुमार यादव, शुभ नथनी के अरुण कुमार मिश्रा आदि किसानों का कहना था कि सरकार की नीयत ही नहीं है कि किसानों का गेहूं खरीदा जाए। इसीलिए ऑनलाइन आवेदन, टोकन, ई-पॉस मशीन जैसे कई चक्रव्यू खड़ा कर दिए हैं जो एक आम किसान के लिए कठिन काम है। प्रदेश सरकार का आदेश कुछ, डीएम का आदेश कुछ और क्रय केंद्र प्रभारी का आदेश कुछ दिख रहा है।

उधर इस बाबत जब उप जिला अधिकारी बैरिया प्रशांत कुमार नायक से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि क्रय केंद्र सोनबरसा पर बैकलॉग की फीडिंग हो रही है। जिन किसानों का गेहूं क्रय केंद्र के कैंपस में चला आया है। उनका गेहूं 8 जून को खरीदा जाएगा। शेष टोकन के आधार पर जिसका सबसे पहले टोकन होगा उसका पहले नंबर लगेगा और उसी क्रम में आते हुए 9 जून से खरीद शुरू की जाएगी।

 

(बैरिया से वीरेंद्र मिश्र की रिपोर्ट)

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.