एकांकी नाटक में ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ के कलाकार रहे अव्वल

  • लोकगीत, लोकनृत्य व नाटक प्रतियोगिता में दिखीं उभरतीं प्रतिभाएं
  • नेहरू युवा केन्द्र की ओर से जिला पंचायत सभागार में हुए कार्यक्रम

बलिया : जिला स्तरीय सांस्कृतिक महोत्सव के अंतर्गत लोकगीत, लोकनृत्य एवं लघु नाटक प्रतियोगिता का आयोजन रविवार के जिला पंचायत में हुआ. नेहरू युवा केन्द्र की तरफ से हुई लोकगीत, लोकनृत्य व नाटक प्रतियोगिता में एक से बढ़कर एक कलाएँ उभर कर सामने आती दिखीं.

प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान पाने वाले प्रतिभागियों को ज्वाइंट मजिस्ट्रेट विपिन जैन ने पुरस्कार देकर उत्साहवर्धन किया. इससे पहले जिला पंचायत अध्यक्ष सुधीर पासवान ने दीप जलाकर कार्यक्रम का शुभारंभ किया. निर्णायक मंडल के रूप में टीडी कालेज के संगीत अध्यापक अरविंद उपाध्याय, जया उपाध्याय व साहित्यकार नवचन्द तिवारी थे.

 

 

जॉइन्ट मजिस्ट्रेट विपिन जैन ने युवाओं को सन्देश दिया कि इस तरह की प्रतियोगिताओं में भाग लेते रहें. हार-जीत के रास्ते से गुजरते हुए एक दिन जरूर सफलता आपके कदम चूमेगी. उन्होंने कहा कि स्थानीय स्तर पर अनेक प्रतिभाएं छुपी होती है.

इसमें इसमें नेहरू युवा मंडल से बेहतर भूमिका किसी और की नहीं हो सकती है. युवाओं के भीतर छिपी प्रतिभा को सामने लाने के लिए नेहरू युवा केन्द्र एक अहम प्लेटफार्म है.

उन्होंने भरोसा दिलाया कि युवाओं को बेहतर दिशा देने में नेहरू युवा समन्वयक नई-नई पहल करें, जिला प्रशासन का हर सम्भव सहयोग मिलेगा। नेहरू युवा समन्वयक शुभम जैन ने आगे भी इस तरह की प्रतियोगिता कराते रहने की बात कही.

लोकगीत में अमरेश, लोकनृत्य में हरेंद्र रहे अव्वल

प्रतियोगिता के दौरान लोकगीत में अमरेश यादव ने बेहतर प्रस्तुति देकर प्रथम पुरस्कार पाया, जबकि शंकर सुमन द्वितीय व अभिषेक यादव तृतीय स्थान पर रहे. लोकनृत्य में पहले स्थान पर हरेंद्र राय, दूसरे पर खुशी व तीसरे स्थान पर राजकुमार रहे.

 

 

इसी तरह एकांकी नाटक प्रतियोगिता में राहुल कुमार की टीम ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ नाटक के माध्यम से पहला, जबकि अंकुश वर्मा की टीम ने अंधविश्वास पर आधारित नाटक प्रस्तुत कर दूसरा स्थान पाया. नेहरू युवा मंडल के अन्य प्रतिभागियों को सांत्वना पुरस्कार दिया गया.

कार्यक्रम में निवर्तमान नेहरू युवा समन्वयक कपिलदेव, कुंवर सिंह के प्राचार्य फुलबदन सिंह, रणजीत सिंह, टीडी कालेज के संगीत अध्यापक अरविंद उपाध्याय, जया उपाध्याय, साहित्यकार नवचंद तिवारी, रश्मि गुप्ता के अलावा नेहरू युवा मंडल के सदस्य मौजूद थे.