कुल पौने तीन लाख लोग रहे बाढ़ की चपेट में

बलिया। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में अब तक 42,296 लोग और 678 पशुओं का उपचार किया गया है. 2,85,640 लोग और 16,115 पशु प्रभावित हुए है. राहत शिविरों में 26,600 लोग शरण लिए हुए हैं और 45,935 लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है. 41 मेडिकल टीमों को प्रभावित गांवों में मोबाईल टीम के रूप में लगा दिया गया है.

इसे भी पढ़ें – किसी बाढ़ पीड़ित को लोगों ने भूखा नहीं सोने दिया

आटा 1209 कुन्तल, चावल 1209 कुन्तल, दाल 242 कुन्तल, नमक 91 कुन्तल, आलू 668 कुन्तल, माचिस 10588, मोमबत्ती 12088, साबुन 10588, त्रिपाल 10190 मीटर, लंच पैकेट 58567, लाई चना 1200 का वितरण किया गया है. क्लोरिन 640714, ओआरएस 8431, मिटटी का तेल 44000 लीटर वितरित किया गया है. 21528 पशुओं का टीकाकरण, 1348 कुन्तल भूसा का वितरण किया गया है. इसके अलावा अन्य कई सेवा संस्थाओं द्वारा 90763 से अधिक पूड़ी, सब्जी, चना, लईया, बिस्कूट आदि के पैकेट भी वितरित किए गए.

इसे भी पढ़ें – अब फिक्र उनकी जो मौत के मुंह में डेरा डाले रहे

शनिवार को गंगा नदी का जलस्तर गायघाट पर 56.95 मीटर, घाघरा नदी का जलस्तर डीएसपी हेड पर 62.440 मीटर, टोंस नदी का जलस्तर पिपरा घाट पर 57.90 मीटर रहा. इस प्रकार इन नदियों का जलस्तर खतरा बिन्दु से नीचे है.

इसे भी पढ़ें – बाढ़ राहत से क्यों वंचित है करइल क्षेत्र

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.