भगवन नाम उच्चारण ही सभी दुखों से मुक्ति का सरल साधन

नगर के उत्तर टोला स्थित नवनिर्मित दुर्गा मन्दिर प्रांगण में आयोजित नौ दिवसीय शिव-शक्ति प्राण प्रतिष्ठात्मक महायज्ञ के तीसरे दिन मानस मर्मज्ञ शक्ति पुत्र महाराज ने कहा कि यज्ञ से वायुमंडल का शुद्धिकरण होता है.

Read more

दुर्गा मंदिर प्रांगण में नौ दिवसीय शिव-शक्ति प्राण प्रतिष्ठात्मक महायज्ञ

रेवती उत्तर टोला स्थित नवनिर्मित दुर्गा मंदिर प्रांगण में चल रहे नौ दिवसीय शिव-शक्ति प्राण प्रतिष्ठात्मक महायज्ञ के दूसरे दिन यज्ञाचार्य पंडित सुनील शास्त्री के नेतृत्व में 11 ब्राह्मणों द्वारा वैदिक मंत्रोचार के बीच यजमानों द्वारा पंचांग पूजन, मंडप प्रवेश वेदी पूजन तथा अरणी मंथन किया गया.

Read more

अद्वैत शिव शक्ति सत्संग आश्रम में यज्ञ का शुभारंभ

अद्वैत शिव शक्ति सत्संग आश्रम में आयोजित यज्ञ का शुभारंभ शनिवार को कलश यात्रा निकालने के साथ हुआ, जिसमें सैकड़ों श्रद्धालु नर-नारियों ने भाग लिया.

Read more

नि:स्वार्थ भावना से ईश्वर का सुमिरन करें – वशिष्ठ

ईश्वर प्रत्येक जीव के अन्दर विद्यमान है, लेकिन मनुष्य का यह कहना कि मैं ही ईश्वर हूं.

Read more

राम कथा सुनने वाला भी संकट हर लेता है- बाल संत बैरागी

यदि मानव श्रद्धा एवं भक्ति पूर्वक श्रीराम कथा का श्रवण एवं मनन करें तो वह संसार के समस्त पापों से मुक्त होकर इश्वर तुल्य हो जाता है.

Read more

काहें भरल बाड़ एतना गुमान में, आव न बिहारी मैदान में

भगवान किसी को न दुख देते हैं न सुख. जीवन में आप जो कर्म करते हैं. उसी के अनुरुप आपके हिस्से में सूख-दुख आते हैं. किए गए कर्मों का फल मानव को भोगना होता है. इसलिए मनुष्य को वेद के अनुसार ही आचरण करना चाहिए. ज्ञान मार्ग और भक्ति मार्ग से कभी अलग नहीं होना चाहिए.

Read more

अगर अब भी नहीं चेता मनुष्य तो आयु दस साल ही रह जाएगी

अंतर्राष्ट्रीय भागवत कथा वाचक श्रीकृष्ण चन्द्र शास्त्री उपाख्य ठाकुर जी की कथा इन दिनों बक्सर में चल रही है. सीताराम विवाह महोत्सव के मौके पर यहां पधारे ठाकुर जी ने कथा में उपदेशों की अमृत वर्षा की. गीता पाठ का उल्लेख करते हुए उन्होंने अहम जानकारी दी.

Read more

बक्सर का सिद्धाश्रम प्रभु श्रीराम का गुरुधाम है

सिद्धाश्रम बक्सर कोई आम नगर नहीं है. यह हमेशा से अध्यात्म जगत के लिए किसी धाम की तरह पवित्र नगरी रही है, जिस तरह भगवान राम के जन्म से अयोध्या का महत्व है. जनकपुर में सीता जी के जन्म के कारण वहां का महत्व है. उसी तरह सिद्धाश्रम प्रभु श्रीराम का गुरुधाम है.

Read more

श्रीनाथ मठ में श्री रामचरित मानस नवाह परायण पाठ

श्रीनाथ मठ पर रामचरित मानस सत्संग अनुष्ठान समिति ब्रम्हस्थान के तत्वधान में नौ दिन तक चलने वाले श्री राम चरित मानस नवाह परायण पाठ एवम संत सम्मलेन का प्रारम्भ मंगलवार को कलश यात्रा के साथ प्रारम्भ की गयी.

Read more

कील रूपी हरि के शरण में जाने से ही मिलेगा माया से छुटकारा

भारतेन्दु सत्संग मंच मेला ददरी में चतुर्थ दिवसीय सत्संग के तीसरे दिन पं. विजय नारायण शरण जी ने कहा कि घोर कलियुग में माया रूपी चक्की में पीसने से बचने के लिए एक मात्र कील रूपी हरि के शरण में जाना पड़ेगा, जैसे की कबीर बाबा का दोहा चलती चक्की देखकर दिया कबिरा रोय, दो पाटन के बीच में, साबुत बचा न कोय, वहीं पर कमाल जी का दोहा मिलता है चलती चक्की देखकर हंसा कमाल उठाय.

Read more