गायत्री माता मंदिर में प्राण-प्रतिष्ठा के साक्षी बने हजारों श्रद्धालु

गायत्री माता मंदिर में प्राण-प्रतिष्ठा के साक्षी बने हजारों श्रद्धालु

108 कुण्डीय श्रद्धा संवर्धन गायत्री महायज्ञ का दीपदान के साथ हुआ समापन

बलिया। शांतिकुंज शक्तिपीठ हरिद्वार के तत्वावधान में गायत्री शक्ति पीठ महावीर घाट बलिया के प्रांगण में चार जनवरी से सात जनवरी तक चला गायत्री माता की प्राण-प्रतिष्ठात्मक एवं 108 कुण्डीय श्रद्धा संवर्धन गायत्री महायज्ञ सोमवार को सम्पन्न हो गया. यज्ञशाला में 108 कुण्डीय महायज्ञ, देवपूजन, तत्वदेवी पूजन, लघुरूद्र सर्वोभद्र पूजन अत्यंत श्रद्धा समर्पण भाव से वैदिक मंत्रोच्चार के साथ सम्पन्न हुआ.
सोमवार को प्रातःकाल अखिल भारतीय गायत्री परिवार प्रमुख डा.प्रणव पाण्ड्या के नेतृत्व में गायत्री प्रतिमा में प्राण-प्रतिष्ठा की गई. रविवार को सायंकाल दीप महायज्ञ में सवा लाख दीप प्रज्ज्वलित किए गए. इसे पूर्ण रूप प्रदान करने में गायत्री परिवार के हर सदस्य पूर्ण मनोयोग से लगे रहे. सायंकाल आयोजित संगीत प्रवचन में अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज हरिद्वार से पधारे टोली नामक यज्ञाचार्य पं. नमोनारायण पाण्डेय ने कहा कि भजन, पूजन, योग ध्यान, तप-तितिक्षा, सेवा दान, तीर्थ-दान, चिकित्सा आदि श्रेष्ठ कार्य तो है ही परंतु श्रेष्ठ कार्य यज्ञ ही है.
मंच पर गायत्री माता, गुरूदेव, गुरूमाता एवं प्रधान कलश एवं अखण्ड दीपक पूजन मुख्य यजमान हंसराज ने धर्मपत्नी के साथ किया. देव पूजन हवन करने में गायत्री परिवार, महिला प्रमुख श्रीमती ललिता त्रिपाठी, हेमवंती पाण्डेय, कंचन चैबे, ऊषा मिश्रा, अन्नपूर्णा पाण्डेय, रामचंद्र, मुनीब, प्रभाकर दुबे, विवेक सिंह, डा. आलोक चैबे, संजय कुशवाहा सहित पांच हजार गायत्री साधक उपस्थित रहे. संचालन गाजीपुर से आए सुरेन्द्र सिंह तथा मीडिया प्रमुख डा. विजयानंद पाण्डेय ने किया. विशिष्ट अतिथियों के प्रति आभार और कृतज्ञता अखिल भारतीय गायत्री परिवार के जोनल प्रभारी प्रसेन सिंह एवं जिला गायत्री परिवार प्रमुख विजेन्द्र चौबे ने संयुक्त रूप से किया.

आपकी बात

Comments | Feedback

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!