सिलिंडर में कम गैस को लेकर ग्राहकों ने किया बवाल, मौके पर जांच में मिली अनियमितता

सिलिंडर में कम गैस को लेकर ग्राहकों ने किया बवाल, मौके पर जांच में मिली अनियमितता

बैरिया(बलिया)। नगर स्थित परमार्थ इंडेन गैस सर्विस के बीबीटोला गोदाम पर उपभोक्ताओं ने वितरित हो रहे सिलेंडरों में गैस कम होने पर जमकर हो-हल्ला मचाया. शोर शराबे के ही दौरान वहां पहुंचे चेयरमैन प्रतिनिधि शिवकुमार वर्मा उर्फ मंटन वर्मा ने जिलाधिकारी भवानी सिंह खांगरौत को इस बावत मोबाइल से सूचना दिया.

सूचना मिलते ही जिलाधिकारी के आदेश पर तहसीलदार रामनरायन वर्मा, पूर्ति निरीक्षक संजीव कुमार, बांट-माप अधिकारी आदित्य राय व थानाध्यक्ष अनिलचंद तिवारी मौके पर पहुंचकर जांच में जुट गए.
जांच में 26 घरेलू व एक व्यवसायिक सिलेंडर ऐसे पकड़े गए, जिसमें से किसी सिलेंडर में कम तो किसी सिलेंडर में तीन किलो से पांच किलो अधिक पाए गए. जांच में गलत पाए गए सभी सिलेंडरों को जांचकर्ताओं ने सील कर दिया है.

गोदाम से भरतछपरा निवासी शमसुद्दीन अंसारी व प्रसादछपरा निवासी शम्भू तिवारी ने मंगलवार को सिलेंडर लिया और बाहर जाकर तौल करवाया तो करीब दो-दो किलो तक गैस कम मिला. दोनो उपभोक्ताओं ने हो हल्ला मचाया. इस दौरान बहुत से उपभोक्ता शोर शराबा करने लगे.
सूचना पर पहुंचे जांच अधिकारियों ने जांच किया तो दोनो शिकायतकर्ता की शिकायत सही मिली. अन्य उपभोक्तओं ने शिकायत किया कि गैस सिलेंडर घर पहुंचाने तक का रुपये रसीद में ले लिया जाता है, जबकि गोदाम से सिलेंडर ले जाने वाले उपभोक्ताओं को होम डिलेवरी चार्ज वापस नही किये जाते है. होम डिलीवरी करते वक्त ठेला वाले अलग से अपना मेहताना लेते है. किसी भी वितरण ट्राली पर कभी वजन करने वाली मशीन नहीं रहती.

जांचकर्ताओं ने गोदाम खुलवाकर जांच किया तो छह सिलेंडर ऐसे मिले, जिसमे एक किलो से लगायत दो किलो कम पाए गए, जबकि गोदाम में खाली सिलेंडर रखे गए थे. तहसीलदार ने खाली सिलेंडरों को खंगाला तो उसमें से 20 सिलेंडर ऐसे मिले जिसमे तीन किलो से पांच किलो तक अधिक भरे गए थे. वही एक व्यवसायिक सिलेंडर में कम गैस मिला. जांचकर्ताओं ने जांच में गलत पाए गए सभी सिलेंडरों को गोदाम के एक कमरे में सील कर दिया. कहा कि रिपोर्ट जिलाधिकारी को सौंप दिया जाएगा. जिलाधिकारी के आदेश मिलने पर 3/7इसी एक्ट के तहत कार्रवाई किया जाएगा.
नगर पंचायत अध्यक्ष शान्ती देवी के प्रतिनिधि शिवकुमार उर्फ मन्टन वर्मा ने बताया कि गैस कालाबजारी की शिकायत लोगो द्वारा मिल रही थी. जनप्रतिनिधि होने के नाते आम जनमानस के साथ हो रहे भ्रष्टाचार का विरोध जनहित में जरूरी है. जांच व कार्रवाई में कोई हिलाहवाली व लिपा पोती हुई तो आन्दोलन होगा. यह कालाबजारी काफी दिनों से हो रही है. लोगो की विभिन्न शिकायते जांच अधिकारी के यहां दर्ज है. कहा कि सबसे बड़ा खतरा तो सिलिंडरों में चार पांच किग्रा अधिक गैस भरे होने से है. सिलिंडर कभी फट सकता है. अगल बगल की लगभग दो हजार आबादी हमेशा खतरे के जद में रह रही है.

आपकी बात

Comments | Feedback

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!