लोक नायक की जन्मभूमि, गोवर्धन पूजा और प्रधान ने दिया राइट-टू-रिकाल का अधिकार

लोक नायक की जन्मभूमि, गोवर्धन पूजा और प्रधान ने दिया राइट-टू-रिकाल का अधिकार

बैरिया (बलिया)। लोकनायक जयप्रकाश नारायण के गांव के संसार टोला में गोवर्धन पहाड़ मंदिर पर रविवार की शाम समाजसेवी सूर्यभान सिंह के संयोजकत्व में भव्यता से गोवर्धन पूजा विधि विधान के साथ सम्पन्न हुआ. पूजा के उपरांत द्वितीय चरण में सम्मान समारोह का आयोजन था. इसके साथ ही भोजपूरी जगत के ख्यातिप्राप्त गायकों का दो गोला गवनई का भी आयोजन रहा.

जिसमें हजारों की संख्या में जयप्रकाश नगर व आसपास के ग्राम पंचायतों के लोग उमड़ पड़े थे.

प्रधान पति ने उठाई राइट-टू-रिकाल की बात, तो प्रधान ने गांव की निगरानी कमेटी के सामने कर दी इस्तीफा की पेशकश

आज के परिवेश में किसी भी पद पर आसीन जनप्रतिनिधि उस पद को कभी भी छोड़ना नहीं चाहते. पद को बचाने के लिए वह लाख जतन करते हैं. कई तरह के राजनीतिक तिकड़म भी लगाते हैं. खास कर ग्राम पंचायतों में प्रधान के पद के लिए तो और भी कई तरह के माहौल बनाए जाते हैं. ऐसे माहौल में यदि कोई जनप्रतिनिधि जनता को “राइट टू रिकाल’ का अधिकार खुले मंच से दे तो वहां राजनीतिक गलियारों में चर्चा होना लाजिमी है. कुछ ऐसा ही नजारा जयप्रकाशनगर के संसारटोला में गोर्वधन पूजा के अवसर पर रविवार की रात को आयोजित सम्‍मान समारोह में तब सामने आया जब यहां की प्रधान रूबी सिंह ने यह अधिकार गांव की जनता को खुले मंच से दिया.वहां सांस्‍कृतिक कार्यक्रम से पूर्व सम्‍मान समारोह का कार्यक्रम चल रहा था. सभी वक्‍ता पूजा और गांव की चर्चा कर रहे थे. इसी बीच प्रधान पति सूर्यभान सिंह के संबोधन का नंबर आया. अपने संबोधन के क्रम में ही उन्‍होंने सामाजिक चर्चा करते हुए कहा कि महात्‍मा गांधी ने भी इस बात पर बल दिया था कि गांव की जनता के पास यह अधिकार होना चाहिए कि वह जब चाहे अपने जनप्रतिनिधि को पद से हटाकर अपने पसंद के प्रतिनिधि का चुनाव कर ले. देश में यह व्‍यवस्‍था लागू हो या न हो मै अपने पंचायत की जनता को यह अधिकार देता हूं कि यदि पंचायत की जनता की अपेक्षाओं पर आपकी प्रधान खड़ा नहीं उतरती तो जनता जब चाहे प्रधान पद पर आसीन मेरी पत्‍नी रूबी सिंह को इस पद से हटा सकते हैं . उनके इस कथन के साथ ही पूरी सभा में सन्‍नाटा पसर गया. बात इतने पर ही नहीं खत्म हुई. प्रधान रूबी सिंह ने अपने इस्‍तीफा का प्रस्‍ताव भी मंच पर उपस्थित गांव के बुजुर्ग अतिथियों को सौंप दिया.

सभी लोग असमंजस में पड़ गए़. इसके उपरांत मंच पर अतिथि रुप में बैठे व‍िभिन्‍न गांवों के लोगों ने प्रधान के इस कदम की सराहना करते हुए कहा कि यह पद गांव के लोगों ने गांव का सेवक मानते हुए आपको दिया है. आपकी महानता है कि अपने यह अधिकार खुले मंच से लिखित रुप से जनता को दिया. मंच पर बैठे मुख्‍य अतिथि कृष्‍ण कुमार सिंह, शिवदयाल यादव, शिवजी सिंह, श्रीराम यादव, महेश राम सहित तमाम लोगों ने प्रधान के इस्‍तीफे के प्रस्‍ताव को मंच से ही रद्द करते हुए उनके इस कदम की सराहना की.

इस मौके पर अजब नारायण सिंह, बृजबिहारी यादव, विभूति यादव, जगलाल यादव, अरूण सिंह, तेजन यादव, राजाराम यादव, रामायण यादव, पदुम यादव, अखिलेश साह हरेराम गोंड, लालबहादुर चौधरी, सहित दर्जनों लोग मौजूद रहे. अध्‍यक्षता श्रीराम यादव और संचालन शिवदयाल पांडेय ने किया.

बेहतर कार्य करने वाले हुए सम्‍मानित

इस समारोह में समिति की ओर से सूर्यभान सिंह ने समाज में बेहतर कार्य करने वाले मीडिया कर्मियों और सामान्‍य लोगों को सम्‍मानित किया। वहीं सभी अतिथियों को स्‍मृति चिन्‍ह भेंट किया.

 

रात भर लेते रहे दोगोला गवनई का आनंद

गोर्वधन पूजा समारोह में भोजपुरी गायक शिवनारायण यादव व अरविंद सिंह अभियन्ता के दोगोला गवनई का आनंद लोग रात भर लेते रहे। इस दौरान अध्‍यात्‍मिक प्रसंगों की बीच एक-दूसरे में रात भर तर्क के साथ कटाक्ष भी होते रहे.

आपकी बात

Comments | Feedback

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!