पूर्वी, कजरी, झूमर और जंतसार के ‘देस’ में डांडिया की ‘टंकार’

पूर्वी, कजरी, झूमर और जंतसार के ‘देस’ में डांडिया की ‘टंकार’

बापू भवन के मंच से हुआ ‘डांडिया उत्सव’ का आयोजन

अपरिमिता संस्थान ने तीन ग्रुपों के विजेताओं को किया सम्मानित


बलिया। जनपद की साहित्यिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक संस्था अपरिमिता ने टाउन हाल में ‘डांडिया उत्सव’ का आयोजन किया. कार्यक्रम का शुभारम्भ दिव्यांग बच्ची अंजली कुमारी ने दीप प्रज्जवलित कर व सोनू लाल ‘सधुआ’ के सरस्वती वंदना से किया. तीन ग्रुपों में हुई प्रतियोगिता के विजेताओं को मंच से पुरस्कृत किया गया.

बलिया में पहली बार ‘डांडिया उत्सव’ का आयोजन संस्था की सचिव लोकगीत गायिका सुनीता पाठक ने किया. मां दुर्गा जी की सामूहिक आरती संस्था की सभी पदाधिकारी सदस्यों एवं वहां मौजूद जन समूह ने एक साथ की. इस मौके पर सुश्री सुनीता ने बताया कि डांडिया व गरबा गुजरात के कई जिलों में नवरात्रि के अवसर पर किये जाते हैं. जिसमें पारम्परिक वेश-भूषा में सभी लोग मां दुर्गा के प्रतिमा के समक्ष आराधना कर गरबा व डांडिया खेलते हैं. हम लोगों का यह छोटा सा प्रयास था कि इस संस्कृति को बलिया में भी आयोजित किया जाय. ताकि इस संस्कृति के प्रति लोगों मेें जागरूकता आये. सभी लोग भव्य रूप से इस आयोजन में बढ़चढ़ के शामिल हो.

इस कार्यक्रम के दौरान डांडिया नृत्य प्रतियोगिता तीन वर्गो में आयोजित की गयी थी, जिसमें पांच वर्ष से 25 वर्ष तक की बच्चियों ने अलग-अलग वर्ग में प्रतिभाग किया.

प्रतियोगिता में इनको मिला सम्मान

ग्रुप-ए में अनन्या पाण्डेय ने 84-90 अंक पाकर प्रथम स्थान प्राप्त किया, वहीं आर्या उपाध्याय ने 70-90 अंक पाकर द्वितीय स्थान प्राप्त किया. तृतीय स्थान श्रेयशी मिश्रा व प्रांजल तिवारी ने प्राप्त किया. ग्रुप-बी में प्रथम स्थान आर्रातिक पाठक, द्वितीय शुभ्रा सिंह व तृतीय स्थान अर्पिता तिवारी ने प्राप्त किया. ग्रुप-सी में श्रेया गुप्ता प्रथम, आयुषी पाण्डेय द्वितीय तथा तृतीय स्थान प्रिया यादव ने पाकर संस्था द्वारा प्रमाण-पत्र व स्मृति चिन्ह प्राप्त किया. सभी विजयी प्रतिभागियों को कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे डा.अशोक द्विवेदी ने सम्मानित किया. इस प्रतियोगिता के निर्णायक मंडल में आजमगढ़ से शय्यद गुप्ता, डा. राजेन्द्र भारती, मशहुर कवियत्री शालिनी श्रीवास्तव ने किया. संस्था में नये सदस्यों को सम्मानित किया गया, जिसमें आभा पाण्डेय, अनिता तिवारी, सुषमा तिवारी, लाडली पाठक, किरण उपाध्याय, रजनी उपाध्याय, कविता सिंह, आरती तिवारी के नाम प्रमुख रूप से शामिल है.

कार्यक्रम से महिला सशक्तिकरण को मिलेगा बल

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे डा. अशोक द्विवेदी ने कहा कि ऐसे कार्यक्रमों से महिलाओं को बल मिलता है. मैं इस कार्यक्रम की आयोजिका सुश्री सुनीता पाठक की भूरि-भूरि प्रशंसा करता हूं. जिन्होंने बलिया में इस तरह के कार्यक्रम कराकर महिलाओं को एकत्रित किया. डा.विभा मालवीय ने कहा कि आज मेरी शिष्या सुनीता पाठक ने यह साबित कर दिया कि प्रतिभा किसी की मोहताज नहीं होती. वर्तमान समय में सुनीता उन हर महिलाओं के लिए प्रेरणा श्रोत बन गयी है, जो अपनी प्रतिभा को लेकर बाहर आती है लेकिन उन्हें सार्थक मंच नहीं मिल पाता और वह मंच देने का कार्य सुनीता पाठक ने किया।

डांडिया महोत्सव की सर्वत्र हुई प्रशंसा

कार्यक्रम का संचालन कर रहे विजय बहादुर सिंह ने कहा कि महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए संस्था ने समय-समय पर जो अनेकानेक कार्य किये है, वो बहुत ही प्रसंशनीय और अनुकरणीय है. अब आवश्यकता है कि हमारा समाज आगे आये और महिलाओं के हित में काम करने वाली इस संस्था को अपना सहयोग व समर्थन प्रदान करें.

इस कार्यक्रम में नन्दिनी तिवारी, भारती सिंह, नेहा पाठक, नीलम गुप्ता, अनिता शर्मा, सरिता पाण्डेय, प्रीति पाण्डेय, उमा देवी, रेनू चैबे, पुनीता उपाध्याय, उमा सिंह, सपना पाठक, शोभा तिवारी, शिवजी पाण्डेय रसराज, पं. राजकुमार मिश्रा, भोला प्रसाद आग्नेय, धीरज गुप्ता, श्याम शर्मा, हीरालाल हीरा, डा.इफ्तेखार खां, लक्ष्मी पंडित, जिला अध्यक्ष मंगलदेव चैबे, हिन्दू जागरण मंच, प्रेमशंकर चैबे, शैलेन्द्र मिश्रा, आनंद मोहन भोजपुरिया, अतुल पाण्डेय, गोपाल जी, फतेहचंद्र बेचैन, समीर खां, आलोक तिवारी, राहुल, नित्यानंद तिवारी, अजीत तिवारी, स्वनंद आदि मौजूद रहे. कार्यक्रम संयोजक हिमांशु गुप्ता ने सभी के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया.

आपकी बात

Comments | Feedback

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!