विवेक तिवारी हत्याकांडः आरोपी सिपाही की ‘करोड़ों की मालकिन’ पत्नी का बलिया तबादला, मगर…

विवेक तिवारी हत्याकांडः आरोपी सिपाही की ‘करोड़ों की मालकिन’ पत्नी का बलिया तबादला, मगर…

लखनऊ। विवेक तिवारी हत्याकांड के मुख्य अारोपी प्रशान्त चौधरी की पत्नी राखी मलिक का तबादला लखनऊ से 450 किलोमीटर दूर बलिया जिले में कर दिया गया है. यह खबर बुधवार को दोपहर बाद राजधानी के पत्रकारों के बीच चर्चा का विषय रही. हालांकि देर शाम डीजीपी कार्यालय के सूत्रों ने साफ कर दिया कि राखी मलिक के तबादले की सूचना गलत है, उसकी तैनाती फिलहाल राजधानी के गोमती नगर थाने में ही है.

गौरतलब है कि लखनऊ के गोमती नगर इलाके में हत्या के आरोप में आरक्षी प्रशांत चौधरी के खिलाफ कार्रवाई का विरोध कर रही उसकी आरक्षी पत्नी राखी मलिक ने रविवार सुबह वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के शिविर कार्यालय पर जमकर हंगामा किया था. राखी पर आरोप है कि वो इस मामले में अपने पति की बचाव कर रही थी और लगातार तूल दे रही थी. इसके अलावा चश्मदीद सना ने भी आशंका जतायी थी कि उसे बोलकर तहरीर लिखाने वाली भी राखी हो सकती है. उसने इस मामले में एकतरफा कार्रवाई का आरोप लगाया था. मौके पर मौजूद मीडियाकर्मियों संग भी उसने बदसलूकी की थी. इसके बाद गोमतीनगर पुलिस उसे थाने ले गई.

दूसरी तरफ प्रशांत के समर्थन में चंदा जमा करने वाली पोस्ट के वायरल होने के बाद राखी मलिक के बैंक अकाउंट में 5.28 लाख रुपये जमा होने की भी सूचना है. बताया जाता है कि 25 सितंबर तक राखी के एकांउट में 447.26 रुपये बैलेंस था. 30 सिंतबर तक कोई ट्रांजक्शन नहीं हुआ, लेकिन विवेक हत्याकांड के अलगे ही दिन राखी के खाने में अचानक पैसे ट्रांसफर होने लगे. जमा होने वाली राशी 50-1000 रुपये तक बतायी जा रही है. 1 अक्टूबर तक इस खाते में 5.28 लाख रुपये जमा बताए जा रहे हैं और यह सिलसिला अभी भी जारी है.

एक न्यूज पोर्टल के मुताबिक हत्यारोपी कांस्टेबल प्रशांत चौधऱी की पत्नी राखी मलिक मेरठ के भदौड़ा गांव की रहने वाली है. गांव में राखी के पास लगभग 80 बीघा जमीन है, जिस पर गन्ने की खेती होती है. इस जमीन की कीमत करीब 32 करोड़ रुपये बताई जा रही है. इस खेत से राखी के परिजनों को करीब 10 लाख रुपये सालाना आमदनी होती है. राखी की सैलरी इसमें नहीं जोड़ा गया है. दूसरी तरफ चर्चा है कि आर्थिक रूप से सम्पन्न राखी वक्त जरूरत में साथी पुलिसकर्मियों की मदद करने में दरियादिली दिखाती रही है.

इसी क्रम में आरोपी सिपाही प्रशांत चौधरी और संदीप पर कार्रवाई के खिलाफ यूपी पुलिस लामबंद होती नजर आ रही है. कोशिश है कि सूबे के सभी पुलिसकर्मी विवेक हत्याकांड में एकतरफा कार्रवाई और अन्य विभिन्न मांगों को लेकर सामूहिक अवकाश पर रहें.  इसके लिए यूपी राज्य पुलिस कर्मचारी परिषद की ओर से व्हाट्सएप पर मैसेज भेजा जा रहा है, जिसमें विवेक तिवारी हत्याकांड में सिपाहियों पर कार्रवाई को एकतरफा बताते हुए विरोध की तैयारी की गई है.

आपकी बात

Comments | Feedback

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!