लोगों के मन का भय खत्म करने डीएम, एसपी पहुंचे सिकंदरपुर, किया नगर में कई चक्कर भ्रमण

दुकानें खुली और आसपास के ग्रामीणों ने की खरीददारी

सिकंदरपुर (बलिया)। पूरे सिकन्दरपुर कस्बे में बुधवार को जिलाधिकारी सुरेन्द्र विक्रम, एसपी अनिल कुमार समेत अन्य प्रशासनिक व पुलिस अधिकारी मार्च करते रहे. डीएम-एसपी ने पुलिस पिकेट पर मुस्तैद जवानों से जानकारी लेकर हर स्थिति पर नजर बनाए हुए है. इस दौरान कस्बे के दर्जनों जगहों पर रुक कर लोगों से अपील की गई कि अंदर से डर-भय निकालकर अपने-अपने व्यवसायिक कार्यों में लगें. कस्बे में पूरी तरह सुरक्षा का माहौल है.

 

कस्बे में शांति, आम जनजीवन लौट रहा पटरी पर

कस्बे में अब पूरी तरह शांति स्थापित हो गई है. आम जनजीवन धीरे-धीरे पटरी पर लौट रहा है. सबसे अच्छी बात कि पिछले 48 घण्टों में कोई छिटपुट घटना भी नहीं हुई है. सुरक्षा को लेकर पुलिस प्रशासन पर लोगो का भरोसा हो गया है. ग्रामीण क्षेत्रों से लोग खरीददारी करने कस्बे में आ रहे हैं. स्कूल खुले हुए है. कुल मिलाकर कस्बे के लोगो ने अब पूरी तरह राहत की सांस ली है.

भ्रामक समाचार पर मौके पर गए डीएम-एसपी, हर किसी ने किया घटना से इनकार
-बुधवार को किसी सम्मानित अखबार में ‘बस स्टेशन चौराहे पर ठेलों पर पथराव के बाद भगदड़’ शीर्षक के साथ निकली खबर पर डीएम-एसपी रोडवेज़ बस स्टेशन चौराहे पर गए. वहां दुकानदारों, व्यापारियों व अन्य स्थानीय लोगों से बातचीत की तो हर किसी ने मंगलवार को हुई ऐसी किसी घटना से इनकार किया. दुकानदारों ने बताया कि करीब अधिकांश दुकानें खुली थी. मंगलवार को सब कुछ शांत था, और पथराव जैसी कोई घटना हुई ही नहीं. लोगों के मन से लगभग डर निकल भी चुका है.

अफवाहों पर न दें ध्यान, पूरी तरह शांति का माहौल
जिला मजिस्ट्रेट सुरेन्द्र विक्रम व एसपी अनिल कुमार ने सभी नागरिकों से अपील किया है कि किसी अफवाहों पर ध्यान न दें. कहीं कुछ गडबड़ी की आशंका भी दिखे तो तत्काल एसडीएम, सीओ, एसओ, चौकी इंचार्ज को अवगत करा दें. अगर कहीं कोई समस्या आए या सुरक्षा की जरूरत महसूस हो तो 100 नम्बर डायल करें. आवश्यकता पड़ने पर डीएम-एसपी से बात कर सकते है. किसी भी मदद के लिए पुलिस प्रशासन मुस्तैदी से तैयार है.

बाहर जाएं तो पड़ोसी को ही जानकारी दें

यह भी अपील की है कि अगर किसी परिवार को किसी कारणवश बाहर जाना पड़े तो इसका ध्यान रखें कि दरवाजे कायदे से बंद हों और प्रकाश जलती रहे. पड़ोसियों को जानकारी रहे कि आप कहाँ जा रहे है. भरोसा दिलाया कि जिला. प्रशासन पूरी चौकसी कर रहा. किसी के मन मे कोई डर भय नहीं होना चाहिए.

उपद्रवियों के चिन्हांकन में हो रहा सूचना एवं प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल

जिला मजिस्ट्रेट सुरेन्द्र विक्रम ने बताया कि अब किसी भी सूरत में उपद्रव करने वाले बच नही पाएंगे. उनको चिन्हित करने में सूचना एवं प्रौद्योगिकी का भी इस्तेमाल हो रहा है. उपद्रवियों पर बिना किसी भेदभाव के कठोर कार्रवाई होगी, ताकि भविष्य में ऐसी घटना की कोशिश करने की कोई हिम्मत नही जुटा सके.

अभिभावकों से अपील, बच्चों को रखें नियंत्रण में

जिला मजिस्ट्रेट सुरेन्द्र विक्रम ने कस्बे के लोगों से अपील की है कि अपने बच्चों पर कड़ी निगरानी रखें. ऐसे बच्चे, जो असामाजिक गतिविधियों में संलिप्त होने का प्रयास कर रहे या उपद्रव की चेष्टा की है, उनको आगाह कर दें कि वे जिला प्रशासन की निगरानी में हैं. उनकी दुर्गति न हों और उनके कुकृत्यों से किसी अभिभावक या माता-पिता का मान-सम्मान खराब न हो, इसलिए उन्हें अपने नियंत्रण में रखें. चेताया है कि कोई असामाजिक गतिविधियों में लिप्त मिला तो जिला प्रशासन व पुलिस ऐसे लोगों को नियंत्रण में रहना सीखा देगी.

उपद्रवियों पर कार्रवाई की खुली छूट

जिला मजिस्ट्रेट सुरेन्द्र विक्रम ने सिकन्दरपुर कस्बे में तैनात पुलिस व पीएसी के जवानों को खुली छूट दी है कि अगर कोई उपद्रव करते हुए दिखाई दें तो स्व विवेक से पूर्ण कार्रवाई के लिए स्वतंत्र हैं. अगर कार्रवाई में ढिलाही बरती गई तो सम्बन्धित की भी जिम्मेदारी तय होगी.

धार्मिक उन्माद फैलाने वालों के घर होगी कुर्की
जिला मजिस्ट्रेट ने पुलिस अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिए है कि अगर कोई व्यक्ति या समूह या उपद्रवी धार्मिक उन्माद फैलाकर पुनः उपद्रव करने का प्रयास करें तो उससे विरुद्ध सख्तो से तत्काल करवाई तो होगी. इसके अलावा ऐसे लोगों पर गैंगेस्टर, रासुका कानून के तहत कार्रवाई होगी और उनकी समस्त पारिवारिक सम्पत्ति को कुर्क करके नीलामी की कार्रवाई होगी, ताकि ऐसे चेहरे बेनकाब हो सकें.

क्षति का होगा आकलन


 जिला मजिस्ट्रेट सुरेन्द्र विक्रम ने मजिस्ट्रियल जांच के लिए नामित अधिकारी अपर जिलाधिकारी को निर्देश दिया कि कस्बे में जहां-जहां क्षति हुई है, चाहे वह किसी भी वर्ग के हों, उसका तत्काल निरीक्षण कर लें. देख लें कि किस दुकान की या व्यक्ति की कितनी क्षति हुई है. यदि आगजनी में किसी प्रतिष्ठान की क्षति हुई है तो श्रम कानून में पंजीकरण का व बीमा आदि के कागजात ले लें. बीमा कम्पनी को सूचित करते हुए बीमा की राशि दिलवाने के प्रयास किया जाए. यह भी निर्देश दिया है कि इस अप्रिय घटना में जिनको चोट आई है उनका भी पूर्ण विवरण थाने से लें.
बाहर गए लोगों से सम्पर्क का होगा प्रयास

जिला मजिस्ट्रेट ने बताया कि कस्बा छोड़कर बाहर गए लोगों से भी सम्पर्क कर उनके मन से भय निकलने का प्रयास होगा. इसके लिए एसडीएम, सीओ, एसओ को निर्देश दिया है कि अगर कस्बे का कोई व्यक्ति या परिवार असुरक्षा की भावना के कारण बाहर चले गए है, तो उनके सम्बन्ध में जानकारी कर उनको सूचित करें और बताएं कि अब कस्बे में शांति का महौल है. उनके मन से भय निकालने में मदद करें.
जिलाधिकारी ने अधिशासी अधिकारी नगर पंचायत को निर्देश दिया है कि कस्बे की गलियों में जहां भी स्ट्रीट लाइट खराब है उसे तत्काल दुरुस्त करा दें, ताकि कोई अंधेरे का लाभ लेकर अराजकता नही करने पावें.

शस्त्र चेकिंग अभियान चलेगा

आगामी दीवाली त्यौहार को देखते हुए जिला मजिस्ट्रेट सुरेन्द्र विक्रम ने निर्देश दिया है कि कस्बे में जो भी अस्त्र-शस्त्र हैं उनमें कितने लाइसेंसी है, उसका डाटाबेस तैयार कर लें. कस्बे में सर्च ऑपरेशन योजनाबद्ध रूप से चलाया जाए. इस दौरान किसी घर में कारतूस मिले तो उसका भी विवरण चेक कर लिया जाए. सर्च ऑपरेशन के दौरान अगर कहीं अवैध शस्त्र मिला तो सम्बन्धित पर एनएसए कानून के तहत कार्रवाई होगी.

डर निकालने के लिए कस्बे में उतरेंगे राजस्व कर्मी
जिलाधिकारी ने बताया कि कस्बे के लोगों के मन से डर निकालने के लिए पर्याप्त मात्रा में राजस्व विभाग के कर्मी कस्बे में रहेंगे. ये सभी कर्मी लोगों से बातचीत कर उनको पूरी तरह सुरक्षित माहौल होने का भरोसा दिलाएंगे.

आपकी बात

Comments | Feedback

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *