Central Desk February 14, 2020
  • कार्य के प्रति लापरवाही पर कमिश्नर का पेशकार को हटाने का निर्देश
  • अविवादित मामले भी लंबित मिलने पर नाराज, चेतावनी दी

बलिया: मंडलायुक्त कनक त्रिपाठी ने गुरुवार को बेल्थरारोड तहसील का निरीक्षण किया. इस दौरान तहसीलदार कोर्ट में काफी फाइलें लंबित होने पर नाराजगी व्यक्त की और पेशकार को तुरंत वहां से हटाने का निर्देश दिया.

उन्होंने SDM के कार्य की तो सराहना की, पर अधीनस्थ अधिकारियों और कर्मचारियों के कार्य की भी मॉनिटरिंग करते रहने के निर्देश दिए.

तहसील के निरीक्षण के दौरान फाइलों के रखरखाव और वादों के निस्तारण पर कमिश्नर का विशेष जोर रहा.

मंडलायुक्त ने पाया कि तहसीलदार कोर्ट में दाखिल-खारिज के बिना विवाद के काफी मामले हैं. कुछ ऐसे भी मामले मिले जिनमें बिना साक्ष्य के आपत्ति की गई थी.

उन्होंने नाराजगी जताते हुए कहा कि अविवादित मामलों का तत्काल निस्तारण किया जाए. बिना साक्ष्य के कोई आपत्ति मिले तो उसे भी तत्काल खारिज कर दें.

कमिश्नर ने कहा कि अनावश्यक लंबित मामलों में एसडीएम-तहसीलदार की भी जवाबदेही तय होगी. इसलिए कोर्ट का काम सिर्फ पेशकार के भरोसे ही न छोड़ें. सीमांकन से जुड़े वाद भी काफी समय से लंबित मिले, जिसे निपटाने का निर्देश दिया.

दाखिल खारिज का एक मामला चार साल से लंबित था, जिसमें कानूनगो की रिपोर्ट लगने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हुई थी. इस पर कमिश्नर ने तहसीलदार को कड़ी चेतावनी दी.

 

साथ ही ऐसे कुछ मामलों की पत्रावली अपने साथ लेती गयीं. माना जा रहा है कि इसका विधिवत परीक्षण के बाद जिसकी लापरवाही पाई जाएगी, उस पर कार्रवाई होगी.

निरीक्षण के दौरान कुछ शिकायतकर्ताओं ने तहसीलदार की शिकायत की, जिसकी जांच कर रिपोर्ट देने का निर्देश अपर आयुक्त, आजमगढ़ मंडल को दिया गया. निरीक्षण के दौरान सीडीओ बद्रीनाथ सिंह, एसडीएम राजेश यादव साथ थे.

शौचालय निर्माण का धन रोककर रखने पर नाराजगी

बलिया: मंडलायुक्त कनक त्रिपाठी ने अपने दो दिवसीय भ्रमण के दौरान गुरुवार को विकासखंड सीयर का भी निरीक्षण किया. इस दौरान खासतौर पर स्वच्छ भारत मिशन के तहत शौचालय निर्माण का धन रोककर रखने पर नाराजगी जतायी.

 

 

उन्होंने चेतावनी दी कि शनिवार तक अगर लाभार्थियों के खाते में धनराशि नहीं पहुंची तो संबंधित एडीओ पंचायत और पंचायत सचिव को प्रतिकूल प्रविष्टि के साथ शासन स्तर से कार्रवाई सुनिश्चित कराई जाएगी.

निरीक्षण के दौरान ब्लॉक के सचिव आशुतोष व नित्यानंद के खाते में क्रमशः 28 लाख व 13 लाख धनराशि मिली. यह धन लाभार्थियों के खाते में होना चाहिए.

इस पर कमिश्नर ने सीडीओ को निर्देश दिया कि शनिवार तक अगर यह धन लाभार्थियों के खाते में नहीं पहुंचा तो मुझे बताएं. संबंधित एडीओ पंचायत और पंचायत सचिव पर कार्रवाई होगी. उन्होंने कहा कि जिन ग्राम पंचायत में धनराशि डम्प हालत में मिले, उनकी सूची दें.

निर्माण कार्य की खराब गुणवत्ता पर इंजीनियर को कड़ी फटकार

बलिया: मंडलायुक्त कनक त्रिपाठी ने निर्माणाधीन बेल्थरारोड रोडवेज का निरीक्षण किया. उन्होंने निर्माण कार्य की गुणवत्ता पर नाराजगी जतायी और कार्यदायी संस्था यूपीपीसीएल के इंजिनियर को जमकर फटकार लगाई.

 

 

उन्होंने लोक निर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता और टीएसी के इंजीनियर को निर्माण कार्य की गुणवत्ता की विधिवत जांच कर रिपोर्ट देने के निर्देश दिए. कमिश्नर के निर्देश पर जांच अधिकारियों ने कुछ नमूने भी साथ लेते गए.

माना जा रहा है कि जांच के बाद कमी मिलने पर जिम्मेदार अधिकारियों पर कार्रवाई होगी. कमिश्नर द्वारा पूछताछ में बताया गया कि 4 करोड़ 76 लाख की लागत से रोडवेज़ का निर्माण कार्य तीन-चार वर्ष से चल रहा है.

 

 

अभी यह हैंडओवर भी नहीं हुआ है. कमिश्नर ने कहा कि गुणवत्ता की रिपोर्ट आने के बाद ही हैंडओवर की कार्रवाई हो.

चौपाल में योजनाओं का किया सत्यापन

बलिया: सीयर ब्लॉक के तिरनई खिजिरपुर में आयोजित चौपाल में मंडलायुक्त त्रिपाठी ने गांव वालों की समस्याएं सुनीं. इस दौरान गांव में हुए विकास कार्यों का उन्होंने भौतिक और स्थलीय सत्यापन भी किया.

पेंशन योजनाओं की स्थिति की जानकारी गांव के पेंशनरों से ली.
ग्रामीणों को सम्बोधित करते हुए कमिश्नर ने कहा कि हम सबका प्रयास है कि सरकार की योजनाओं का लाभ हर पात्र तक पहुंचे.

 

 

ऐसा तभी संभव होगा जब ब्लॉक व ग्राम स्तर पर के अधिकारी-कर्मचारी अपना काम ईमानदारी से करेंगे. साथ ही गांव के लोग भी योजनाओं के प्रति जागरूक होंगे.

उन्होंने ग्रामीणों से कहा कि किसी भी योजना के प्रति अगर कोई उदासीनता या लापरवाही दिखे तो तत्काल उच्चाधिकारियों को बतायें. चौपाल में सीडीओ बद्रीनाथ सिंह सिंह ने गांव में विभागवार हुए विकास कार्यों को विस्तार से बताया.

इस मौके पर ADM रामआसरे, SDM राजेश कुमार यादव, तहसीलदार जितेंद्र सिंह समेत अन्य जिला स्तरीय अधिकारी भी मौजूद थे.

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.