News Desk November 13, 2019

प्रयागराज। बदलती जीवन शैली और खानपान की वजह से बुजर्गो के साथ बच्चे भी मधुमेह की बीमारी की गिरफ्त में आ रहें हैं. मधुमेह एक ऐसी बीमारी है जिससे शरीर की क्षमता काफी कमजोर हो जाती है. इस बीमारी से शरीर में कार्य करने की क्षमता काफी कम हो जाती है. इस खतरनाक बीमारी से जागरूक करने के लिए विश्व मधुमेह दिवस 14 नवम्बर को मनाने की तैयारी को स्वास्थ्य विभाग ने शुरू कर दिया है, जिसकी निर्धारित थीम “फैमिली एंड डायबटिस” अंतर्गत विश्व मधुमेह दिवस पर गोष्ठी, हस्ताक्षर कैम्प्येन, नियमित जांच एवं उपचार व व्यायाम के विषय में आयोजन के लिए तैयारी कर ली गयी है.

अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. वी.के मिश्रा ने बताया कि विश्व मधुमेह दिवस जनपद के स्वास्थ्य सेन्टरों पर मनाने की तैयारी की जा रही है. मण्डलीय चिकित्सालय काल्विन , कम्पनी गार्डन में विभाग की तरफ से जागरूकता कैम्प तथा गोष्ठी हस्ताक्षर कैम्प्येन का आयोजन किया जायेगा जिससे लोगों का जांच व परामर्श देने का कार्य किया जायेगा. चिकित्सालय स्थित सभागार में सभी डॉक्टरों के साथ गोष्ठी का भी आयोजन किया जायेगा.

उन्होंने बताया कि 14 नवम्बर को सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर मधुमेह की निःशुल्क दवा का वितरण किया जायेगा और इस रोग से ग्रसित व्यक्ति को उनके दिनचर्या व नियमित रूप से खान पान के विषय में विस्तार पूर्वक बताया जायेगा. उनको व्यायाम के तरीकों के विषयों में भी बताया जायेगा जिससे वे फिट हो रह सकें और आने विभिन्न प्रकार की कठिनाइयों से दूर रहें तथा अपनी जांच समय से कराते रहें. इसके अलावा सबसे आवश्यक बात यह है कि वह डॉक्टर के परामर्श से ही दवा लें.

विश्व मधुमेह दिवस के बिंदु
  • मधुमेह के सम्बन्ध में जागरूकता
  • जीवन शैली में परिवर्तन
  • नियमित जाँच एवं उपचार
  • व्यायाम करना
बचाव

बीमारी से बचने का सबसे कारगर तरीका है कि भोजन स्वस्थानुसार और पौष्टिक लें तथा नियमित व्यायाम करें. जीवन को तनाव से मुक्त रखें और अपने शौक को हमेशा जिंदा रखे. खुश रहने की वजह ढूंढें. – डॉ.वीके मिश्रा (अपर मुख्य चिकित्साधिकारी, प्रयागराज)

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.