General Desk May 10, 2019

गिनाए विकास के कार्य, आतंकवाद के खत्म के लिए भाजपा प्रत्याशी को जितने का किया आह्वाहन

बलिया। केंद्रीय भूतल एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कांग्रेस पर करारा प्रहार किया. उन्होंने कहा कि 1984 में गंगा को निर्मल बनाने का संकल्प लेने वाले राजीव गांधी गंगा को निर्मल नहीं बना सके. हमने पांच साल में ही इतना निर्मल बना दिया की प्रियंका गांधी बार-बार गंगा का पानी पी रही हैं.
शुक्रवार को बलिया लोकसभा क्षेत्र के हल्दी में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए गडकरी ने कहा कि हमने पांच सालों में प्रयाग राज से वाराणसी तक जलमार्ग बनाया, तभी प्रियंका गांधी प्रयाग राज से वाराणसी तक जलमार्ग से यात्रा कर सकीं. उन्होंने कांग्रेस के 50 साल के शासन पर चुटकी लेते हुते कहा कि कांग्रेस ने पचास सालों में जो नहीं किया हमने प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में कर दिखाया. उन्होंने कहा कि आज देश बदल रहा है और नए भारत का निर्माण हो रहा है.
गडकरी ने कहा कि तीन बार युद्ध में हारने के बाद पाकिस्तान लगातार प्रॉक्सी वार कर रहा है. आतंकवाद के जरिये भारत में अस्थिरता फैलाने की साजिश कर रहा है. मोदी सरकार आतंकवाद को मुंहतोड़ जवाब दे रही है. उन्होंने कहा कि देश की जनता को यह तय करना होगा कि उसे आतंकवाद के सामने घुटने टेकने वाला प्रधानमंत्री चाहिए कि आतंकवाद को मुंहतोड़ जवाब देने वाला प्रधानमंत्री चाहिए.
उन्होंने कहा कि देश में रीजनल एयरपोर्ट बनाये जा रहे हैं. रेल सेवा का विस्तार हो रहा है. उन्होंने कहा कि वाराणसी से हल्दिया तक जलमार्ग से माल ढुलाई करने के लिए गंगा को अविरल और निर्मल करने का काम चल रहा है. अगले साल मार्च महीने तक गंगा निर्मल और स्वच्छ हो जाएंगी. उन्होंने चीन के विकास में जलमार्ग से माल ढुलाई की भूमिका को रेखांकित करते हुए कहा कि जलमार्ग से माल ढुलाई सबसे सस्ता होता है.
किसानों की समृद्धि की चर्चा करते हुए कहा कि मैंने यहां किसानों को पराली जलाते हुए देखा. जबकि देश में पराली से इथेनॉल बनाने की तकनीक विकसित हो चुकी है. महाराष्ट्र में इथेनॉल से सीएनजी बनाई जा रही है और सीएनजी से चलने वाले ट्रैक्टर विकसित किये जा चुके हैं. उन्होंने कहा कि पूरे देश में पराली से इथेनॉल बनाने की तकनीक स्थापित की जाएगी. इससे किसानों को समृद्ध बनाने और युवाओं को रोजगार देने का मार्ग प्रसस्त होगा.
केन्द्रीय भूतल परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने लोकसभा चुनाव में 2014 के चुनाव से अधिक सीटे जीतने का दावा किया है. उन्होंने शहीदों, सेनानियों की भूमि का नमन करते हुए कहा कि इस धरती ने स्वतंत्रता का प्रथम संग्राम हो, सन् 1942 भारत छोड़ों आंदोलन या फिर 1977 का आपातकाल का विरोध में जेपी मुवमेंट, सभी अवसरों पर बलिया ने इन राष्ट्रव्यापी आंदोलनों का नेतृत्व किया है और देश को सही दिशा देने का काम किया है.
केन्द्रीय जल संसाधन मंत्री श्री गडकरी शुक्रवार को हल्दी खेल के मैदान पर बलिया संसदीय निर्वाचन क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी किसान मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष वीरेन्द्र सिंह मस्त के समर्थन में आयोजित जनसभा को सम्बोधित कर रहे थे. कहा कि मोदी जी के नेतृत्व में पांच साल के अंदर जितना काम हुआ है वो कांग्रेस के छः दशक के शासनकाल में नहीं हुआ है. कांग्रेस के नेताओं या विपक्ष के अन्य नेताओं ने मोदी जी को जितनी गालिया दी, वो उन लोगों के हताशा की द्योतक है. गडकरी ने कांग्रेस को याद दिलाया कि 1971 के युद्ध के समय या बाद में अटल बिहारी बाजपेयी के नेतृत्व में पूरा विपक्ष तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी के साथ था. संसद से लेकर सड़क तक सबकी एक राय थी.
किसान मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं बलिया क्षेत्र से लोकसभा के प्रत्याशी वीरेन्द्र सिंह मस्त ने कहा कि केन्द्र सरकार की उपलब्धिया ही है कि आज घर-घर मोदी-मोदी हो रहा है. देश का स्वाभिमान व गरिमा विदेशों में बढ़ा है. सरकार ने एहसास करा दिया है देश के अंदर आतंकवाद के पोषक जिंदा नहीं बच पाएंगे. राज्यमंत्री उपेन्द्र तिवारी ने नितिन गडकरी को भरोसा दिलाया कि इस बार भी बलिया जनपद के अंतर्गत आने वाले सीट बलिया, घोसी, सलेमपुर से भाजपा प्रत्याशी ही विजयी होंगे. नगर विधायक आनंद स्वरूप शुक्ल, बैरिया विधायक सुरेन्द्र सिंह, भाजपा के जिलाध्यक्ष विनोदशंकर दुबे, लोकसभा प्रभारी विजय बहादुर दुबे, जिला पंचायत सदस्य चंद्रप्रकाश पाठक, पिंटू सिंह, संजीव कुमार डम्पू, जितेन्द्र तिवारी, महावीर पाठक, वशिष्ठदत्त पाण्डेय, प्रदीप सिंह, रंगनाथ मिश्र, नंदलाल सिंह, शेषमणि राय ने भूतल परिवहन मंत्री का स्वागत किया. संचालन विधायक आनंद स्वरूप शुक्ल तथा महामंत्री संजय मिश्र ने संयुक्त रूप से किया.

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.