ballia live
General Desk September 9, 2018

बैरिया(बलिया)। घाघरा नदी के तल्ख तेवर को देखते हुए प्रशासन भी पूरी तरह सक्रिय है. जिलाधिकारी भवानी सिंह खंगारौत भी स्वयं बाढ़ क्षेत्र में लगातार दौरा कर हर स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं. शनिवार को उन्होंने बैरिया विधायक सुरेंद्र सिंह के साथ नाव से जाकर बाढ़ से घिरे लोगों का हाल जाना. एनडीआरएफ की नाव से अठगावा गए. वहां से टोला फतेह राय, बैजनाथ टोला, बकुल्हां, बकुल्हां पूर्वी में जाकर बाढ़ पीड़ितों को भरोसा दिलाया कि उनको किसी प्रकार की तकलीफ नहीं होगी. हर पीड़ित परिवार को राहत सामग्री का पैकेट व 10 किलो आलू उपलब्ध कराया जाएगा.


शनिवार की जल्द सुबह ही डीएम-एसपी बाढ़ क्षेत्र में पीड़ितों का हाल जाना निकल पड़े. चांददियर पुलिस चौकी पर बाढ़ प्रभावित इलाकों की जानकारी लेने के बाद बीएसटी बंधे पर नई बस्ती के सामने गए. वहां से बैरिया विधायक सुरेंद्र सिंह के साथ एनडीआरएफ की नाव पर सवार होकर अठगावा जाकर बाढ़पीड़ितों से मिले. तहसीलदार को निर्देश दिया कि जिनके घर पानी से घिर चुके हैं उनको राहत सामग्री का पैकेट तत्काल दिया जाए. लगातार इस क्षेत्र में आकर पीड़ितों की जरूरतों के बारे में पूछताछ करते रहें. विधायक सुरेंद्र सिंह ने भी बाढ़ प्रभावित लोगों को भरोसा दिलाया कि इस आपदा की घड़ी में वह उनके साथ हैं. हरसंभव सहयोग के लिए तत्पर रहने की बात कही. इस दौरान पुलिस अधीक्षक श्रीपर्णा गांगुली, एसडीएम बैरिया लालबाबू दूबे, तहसीलदार बैरिया गुलाब चन्द्रा, सीओ उमेश कुमार साथ थे.

गांव वालों को दी राहत मिलने वाली खबर

बैरिया तहसील क्षेत्र के बाढ़ के पानी से घिरे गांव में भ्रमण के दौरान जिलाधिकारी ने राहत मिलने वाली जानकारी दी. बताया कि पानी का स्तर घट रहा है. निश्चित रूप से इससे काफी राहत मिलने की संभावना है. उन्होंने ग्रामीणों को भरोसा दिलाया कि हर स्थिति से निपटने के लिए प्रशासन तैयार है. जरूरत पड़ने पर तत्काल राहत सामग्री के पैकेट पीड़ितों में वितरित किया जाएगा.

एनडीआरएफ की दो टीमें जिले में

जिलाधिकारी ने बताया कि एनडीआरएफ की दो टीमें जनपद में बुला ली गई हैं. हालांकि बहुत खतरनाक स्थिति नहीं है लेकिन नदी का जलस्तर खतरा बिंदु पार करने के बाद एहतियात के तौर पर ये टीमें बुलाई गई हैं. एक टीम बैरिया तहसील में और दूसरी टीम बांसडीह तहसील में है. बाढ़ प्रभावित इलाकों में टीम के जवान लोगों का सहयोग भी कर रहे हैं.

आपकी बात

Comments | Feedback

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!